उत्तर प्रदेश गोरखपुर राज्य

गोरखपुर :: बृद्धजनों,कुष्ठ रोगियों व रिक्शा चालकों को खाद्य सामग्री प्रदान कर किया पौधारोपण

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मनोज पांडेय, कुशीनगर केसरी/kknews24 गोरखपुर(२५ जून)। “प्रयास एक परिवर्तन का” के विचार से प्रेरित जन-जन के सहयोग से चल रहे मासिक सेवा के बारे में संयोजक प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि इस योजना के तहत भिन्न-भिन्न अवसरों पर सेवाओं के साथ लोगों को सामाजिक जिम्मेदारी के प्रति जागरूक भी किया जाता है। चुनाव के समय मतदान के लिए जागरूकता अभियान के बाद अब इस माह से जुलाई माह तक होने वाले हर सेवाओं में बच्चों से लेकर हर उम्र के व्यक्ति को यथा सम्भव सहयोग के साथ साथ “हर वर्ष 5 पौधे लगाकर उन्हें संरक्षित करें” स्लोगन लिखे झोले में खाद्य सामग्री प्रदान की जाएगी।

उन्होंने बताया कि हर साल की भाँति इस वर्ष भी कम से कम 100 पौधे लगाने का प्रयास है। जिसकी शुरुआत कुष्ठ आश्रम व बृद्धा आश्रम में पौधे लगाने से की जा चुकी है। आज सबसे पहले बृद्ध आश्रम में पौधरोपण कर बृद्धजनों में भोजन, बिस्कुट व फल वितरित किया गया। बृद्धजनों को पौधारोपण में सहयोग कर अपार खुशी हुई व इन कार्यों की सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। इसके बाद पौधरोपण के प्रति सेवाओं के माध्यम से जागरूकता अभियान में राजेन्द्र नगर में कुष्ठ रोगियों में भी पुड़ी, हलुआ, बिस्कुट, फल का वितरण किया गया। पौधों की यथा संभव देखभाल के लिए प्रेरित किया गया। पिछले दिनों कुष्ठ आश्रम में भी पौधरोपण किया गया था। आने वाले समय में पुनः पौधरोपण किया जाएगा। रिक्शा चालकों, ठेला चालकों व अन्य जरूरतमंदों में भी स्लोगन लिखे झोले में खाद्य सामग्री का वितरण कर उन्हें भी पौधारोपण के लिए प्रेरित किया गया है।

आगे श्री श्रीवास्तव ने बताया कि पर्यावरण व समाज के प्रति अपनी नैतिक दायित्व के तहत सामाजिक कार्यों में हर अवसर पर यथा सम्भव सहयोग किया जाता है। पूरे बरसात तक जागरूकता व पौधारोपण अभियान जारी रहेगा। कोई भी संवेदनशील व्यक्ति हमारे साथ इस अभियान में शामिल हो सकता है, सहयोग कर सकता है। आयोजन में बिस्वास दादा, मनोज बंका, पंकज सिंह,प्रेम जालान,रंजीत बदलानी, डॉ आशीष, मनकेश्वर पांडेय, विवेक श्रीवास्तव, दिव्येन्दु नाथ, अनिता, डॉ रितु, समृद्धि, सृष्टि, सुरेन्द्र यादव, चीकू, अनुतोष मिश्रा, राजेश, नीरज, अवध गुप्त, सत्यम सिंह, डॉ प्रतिमा आदि का सहयोग रहा।

About the author

Aditya Prakash Srivastva