पटना बिहार राज्य

पटना :: बिहार की दिनभर की खास खबरें एकसाथ

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/kknews24 बिहार कि रिपोर्ट….

बिहार के बाद झारखंड में भी AES की दस्तक, आशंका 1 की मौत, 10 बच्चे बीमार

पटना :: बिहार के बाद अब झारखंड में भी एक्यूट इन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार ने दस्तक दे दी है। चमकी बुखार ने गोड्डा जिला के बसंतराय प्रखंड के कैथपुरा गांव में अपने पांव पसार लिये हैं। जहां एक बच्ची की बिहार के भागलपुर में इलाज करा कर लौटने के दौरान मौत हो गई जबकि 10 बच्चे इस जानलेवा बीमारी से अभी भी जूझ रहे हैं। हालांकि इसकी सूचना मिलने पर पीड़ित बच्चों को पथरगामा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर गांव के तीन अन्य बच्चों की हालत भी बिगड़ी गई है। रास्ते में बच्ची ने तोड़ा दम इस संबंध में परिजनों ने बताया कि बच्ची ने सिर दर्द की शिकयत की तो स्थानीय डॉक्टर से उसका इलाज कराया गया। कल अचानक बच्ची बेहोश हो गई तो उसे भागलपुर स्थित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज सह अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे चमकी बुखार से पीड़ित बताया और बेहतर इलाज के लिए बाहर ले जाने की सलाह दी। इस पर परिजन बच्ची को लेकर घर आ रहे थे। इसी दौरान आज सुबह रास्ते में ही बच्ची ने दम तोड़ दिया। गोड्डा जिला सीएस डॉक्टर रामचंद्र पासवान कैथपूरा गांव पहुंचे डॉ रामचंद्र पासवान ने बताया अभी जांच का विषय है। सभी बच्चे का जांच किया जा रहा है डॉक्टरों की टीम जो गांव पहुंची है गांव में ही कैंप लगाए रहेगा पूरा गांव के ग्रामीणों से और गार्जियन अभिभावकों से कहा सभी बच्चे को स्कूल भेजने से मना किया है सभी बच्चे को ध्यान देने कि बात कही और घर में ही रहने दें बाहर खेलने के लिए ना भेजें बच्चे को बराबर पानी पिलाते रहें बात कही डॉक्टर रामचंद्र पासवान ने फिलहाल इस मामले को जांच का विषय बताया है कैथपुरा गांव में चमकी बीमारी कि आशंका की खबर सुनने पर गोड्डा के स्थानीय भाजपा विधायक अमित मंडल सक्रिय हो गए विधायक अमित मंडल ने स्वास्थ्य विभाग को कई निर्देश भी दिए कैथपूरा गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 10 बच्चों को इलाज के लिए पथरगामा अस्पताल भेजा फिर भी कैथपूरा गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में कैंप लगाए हुए हैं।

नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य मंत्री से मांगा इस्तीफा, मंडरा रहा गठबंधन टूटने का खतरा…

पटना :: बिहार में चमकी बुखार से बड़ा राजनीतिक उलटफेर देखने को मिल सकता है. न्यूज़ 18 सूत्रों के हवाले से लिखा है कि नीतीश कुमार मंगल पांडेय के इस्तीफे पर अड़े हैं। विपक्ष के हमलों के बीच अब बिहार सरकार के भीतर भी खींचतान की खबरें सामने आ रही हैं। हालांकि बीजेपी सूत्रों ने भी स्पष्ट संकेत दिया है कि वह इस्तीफा नहीं देंगे। अगर बीजेपी अपने फैसले पर अडिग रहती हैं तो नीतीश कुमार गुस्से में कोई बड़ा कदम उठा सकते हैं, हो सकता है बिहार में पहले चुनाव हो जाये।

रिपोर्ट के अनुसार नीतीश कुमार नैतिकता के आधार पर मंगल पांडे से इस्तीफा मांगी है। दरअसल मुख्यमंत्री का मानना है कि चमकी बुखार से हुई बच्चों की मौतों के मसले पर बुरी तरह घिर चुकी बिहार सरकार को इस इस्तीफे से थोड़ी राहत मिल सकती है। सीएम का मानना है कि चमकी बुखार का मामला सीएम से अधिक संबंधित स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी थी और यह मंगल पांडे के ही जिम्मे है। बता दें जब नीतीश कुमार रेल मंत्री थे तब उन्होंने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया था। वहीं नीतीश के इस्तीफे की डिमांड को बीजेपी के नेता इसे कोरी राजनीति कह रहे हैं। पार्टी का मानना है कि यह आज का मसला नहीं है, यह हर साल होता है। इसके लिए दीर्घकालीन नीति बनानी होगी जो बिहार सरकार को करना चाहिए. जाहिर है आरोप-प्रत्यारोप के बीच इसी मसले पर दोनों पार्टियों के बीच तलवारें खिंची हुई हैं। मंगल पांडे बिहार बीजेपी के कद्दावर नेता माने जाते हैं। उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के करीबी होने के साथ राष्ट्रीय स्तर पर उनकी पहचान एक सशक्त संगठनकर्ता की भी है। बिहार में बीजेपी के अध्यक्ष रहे तो पार्टी को विस्तार दिया था। इसी तरह वह झारखंड और हिमाचल प्रदेश के चुनाव प्रभारी रहे और पार्टी को उन्होंने दोनों ही जगहों पर जीत दिलाई थी।

नशा मुक्ति दिवस पर पुलिस कर्मियों ने रैली निकाल किया नशा मुक्ति की अपील

बगहा(प0च0) :: अंतर्राष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर पुलिस प्रशासन की ओर से नगर थाना क्षेत्र में रैली निकाली गई। जिसमें पुलिस प्रशासन की ओर से स्थानीय लोगों को नशे से मुक्त रहने की अपील की गई। बता दे की बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर बगहा नगर थाना क्षेत्र में पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार रंजन की अध्यक्षता में पुलिस कर्मियों की ओर से एक जनजागरूकता रैली निकाली गई। जिसमें पुलिस के जवानों ने स्थानीय लोगों को नशे का सेवन न करने तथा इसके दुष्प्रभाव को लेकर लोगों को जागरूक किया। वहीं दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन सहित एसएसबी ने भी रैली निकाली साथ ही हाथ में बैनर और तख्ती के साथ शहरी व ग्रामीण इलाकों में भ्रमण किया। इस दौरान आम लोगों के बीच जागरूकता का संदेश फैलाया गया। साथ ही इस दौरान सेमिनार का भी आयोजन किया गया। वहीं रैली और सेमिनार का मुख्य उद्देश्य शहरी एवं ग्रामीण जनता को नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक करना था जो बगहा शहर के विभिन्न क्षेत्रों में विश्व नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर एसएसबी 21वीं वाहिनी, 65 वीं वाहिनी और पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एक झांकी निकाली गई।

इस झांकी में अनुमंडल पदाधिकारी सहित आम जनता और स्कूली छात्र-छात्राएं भी शामिल हुए। इस दौरान शहरी और ग्रामीण जनता को धूम्रपान, शराब एवं नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले दुष्परिणामों के प्रति जागरूकता का संदेश दिया गया। रैली के बाद सेमिनार का भी आयोजन किया गया। एसएसबी 21वीं बटालियन के प्रभारी सेनानायक लाला राम महला ने बताया कि ग्रामीण और शहरी इलाकों में युवा वर्ग का एक बड़ा तबका नशे का शिकार हो रहा है। ऐसे में इन क्षेत्रों में लोगों को नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाले गंभीर बीमारियों से बचाने हेतु इन्हें जागरूक करना हमारा दायित्व है। इसी के मद्देनजर बुधवार को अहले सुबह ही सामूहिक रूप से झांकी और सेमिनार आयोजित कर लोगों को जागरूक किया गया। जिसमे स्थानीय लोगों को नशा से दूर रहने की अपील की गई।

About the author

Aditya Prakash Srivastva