क्राइम पश्चिमी चम्पारण बगहा बिहार राज्य

बगहा(प.च.) :: मगरमच्छ की चपेट में पड़े युवक बहत्तर घंटे के बाद घर वापिस लौटा, लोग पड़ गये हैरत में

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, बिहार बगहा/हरनाटांड़(०१ जुुुलाई)। मगरमच्छ की चपेट में गए युवक तीन दिन यानी 72 घंटे के बाद घर लौटा। तिरहुत नाहर के सायफन में शौच करने के दौरान मगरमच्छ की चपेट में जाने की सूचना पर पुलिस प्रशासन व वन विभाग की टीम युवक की खोजबीन कर रही थी कि युवक के सुरक्षित लौट आने पर जांच में जुटी पुलिस।

बताते चलें कि बगहा 2 प्रखंड के बिनवलिया बोदसर पंचायत के थारु टोला सीधाव निवासी सुभाष महतो शनिवार की देर रात सुरक्षित अपने घर लौट आया। उसी वक्त को शौच के दौरान मगरमच्छ की चपेट में जाने की सूचना पर प्रशासन पुलिस व वन विभाग की संयुक्त टीम खोजबीन कर रही थी। इसी बीच शनिवार की देर रात करीब 12:00 बजे अपने घर लौट आए युवक के वापस घर लौट जाने के बाद क्षेत्र में अलग-अलग चर्चा का बाजार गर्म है। बोदसर पंचायत के मुखिया चंद्रदेव राम ने बताया कि 27 जून को करीब 11बजे दिन में साइकिल से शौच करने के लिए तिरहूत नहर के पास आया था। पूछताछ के दौरान युवक सुभाष महतो ने बताया था कि इसी बीच ग्रामीणों से सूचना मिली थी कि उस युवक को खींच कर पानी में मगरमच्छ ले गया थानाध्यक्ष व मुखिया ने बताया कि सुभाष को गंभीरता से लेते हुए नाहर के पास नहर के पानी निकाल कर युवक को खोजबीन कराया गया लेकिन कोई सुराग नहीं मिला। थानाध्यक्ष ने बताया कि रविवार के सुबह सूचना मिली कि यह मगरमच्छ के चपेट में आ गया था जो अब युवक घर आ गया है। इस पर पहुंची पुलिस हैरत में पड़ गई। थानाध्यक्ष ने बताया कि सूचना पर पंचायत के मुखिया आदि लोगों के साथ युवक के घर थारू तोला सीधाव में पहुंचकर जांच किया गया तो युवक सुभाष महतो अपने घर पर मिला। उन्होंने बताया कि युवक को गहन पूछताछ करने पर वह कहता है कि मैं साइकिल के साथ शौच करने के पश्चात अचानक में जंगल की तरफ चला गया, मुझे कुछ पता नहीं था। थानाध्यक्ष ने बताया कि वह अपने बयान पर कई तरह के बात, बता रहा है। इसलिए इससे प्रतीत होता है की इसका दिमागी संतुलन कमजोर है। लौकरिया थानाध्यक्ष ने बताया कि इसके पहले भी यह युवक इसी तरह का अफवाह पर गायब हो गया और काफी दिनों के बाद घर लौटा था साथ ही बताएं कि अगर इस तरह का कोई अफवाह फैलाता है। इसमे प्रशासन की मशक्कत करनी पड़ती है। उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

About the author

Aditya Prakash Srivastva