उत्तर प्रदेश कुशीनगर राज्य

कुशीनगर :: आरटीओ विभाग में गजब का खेला जा रहा है ड्राइवरी लाइसेंस का खेल

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आदित्य प्रकाश श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/kknews24 कुशीनगर(०६ जुलाई)। उत्तर प्रदेश सरकार ने ड्राइवरी लाइसेंस जारी करने के लिए ऑनलाइन फार्म और परीक्षाओं का पुख्ता इंतजाम किए ताकि आरटीओ विभाग से चल रहे गंदे ड्राइवरी लाइसेंस का खेल समाप्त हो सके लेकिन अधिकारी द्वारा “तू डाल-डाल मैं पात-पात” की कहावत को चरितार्थ करते हुए परीक्षा में फेल हुए लोगों को भी मोटी रकम लेकर ड्राइवरी लाइसेंस जारी करने का काम करने का मामला प्रकाश में आया है।
बताते चलें कि कुशीनगर जनपद के आरटीओ विभाग लोगों पर इतना मेहरबान है कि आरटीओ विभाग में ड्राइवरी लाइसेंस के लिए परीक्षा देने के बाद फेल होने पर भी उनका ड्राइवरी लाइसेंस जारी कर दिया जाता है और कुछ तो ऐसे हैं जिनको बिना परीक्षा में कंप्यूटर पर बैठे ही मोटी रकम लेकर लाइसेंस जारी कर दिया जाता है। सूत्रों की मानें तो लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के लिए सरकार द्वारा ₹350 रुपया शुल्क निर्धारित किया गया है लेकिन लाइसेंस धारकों से ₹2200 रुपयेे और लाइट ड्राइवरी लाइसेंस के ₹1000 रुपये की जगह ₹4500 रुपये तक की वसूली की जाती है। आखिर में एक ड्राइवरी लाइसेंस के लिए एक आम आदमी से इतने पैसों की वसूली क्यों होती है। यह कोई भी जिम्मेदार बताने से परहेज करता नजर आ रहा है। जब आरटीओ विभाग में तैनात कर्मचारियों को सरकार तनख्वाह देती है तो यह आम जनता से अवैध वसूली क्यों ? यह समझ से परे है। इससे तो अच्छा पहले ही था कि बेईमान सरकारें थी और आम जनता को सहूलियत से कम पैसे में उनका ड्राइवरी लाइसेंस तो बन जाता था ईमानदार सरकार का क्या मतलब ? यह सब सवाल आरटीओ विभाग सहित सरकार को भी कटघरे में खड़ा करता है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment