उत्तर प्रदेश कुशीनगर राज्य

कुशीनगर :: बिजली व्यवस्था को लेकर लगभग दर्जनों गांवो में मचा हाहाकार

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मनोज पाण्डेय, कुशीनगर केसरी/kknews24 कुशीनगर(१० जुुुलाई)। खडडा विधान सभा तहत बुलहवा, छितौनी, नरकहवा, पनियहवा संग आसपास के क्षेत्रों में लगभग 5 दिन से बिजली आपूर्ति बाधित है। खडडा जेई से बात करने पर उनके कथानुसार कोटवा जेई विधुत आपूर्ति की सप्लाई नही दे रहे हैं। प्रभावित क्षेत्रों को कोटवा के जेई से बात करने पर उनके कथानुसार खडडा जेई भाग रहे अपने जिम्मेदारियों से एसडीओ खड्डा से बात करने पर प्रथम दिन से 2 घण्टे में बिजली मिल रही है आज 5 दिन हो गया, उनका 2 घण्टा नही बिता। विधुत अभियंता से बात करने पर ‘ठीक है अभी दिखवाते ‘ 5 दिन बिता वो भी अभी तक दिखवाते रह गए। गोरखपुर विधुत मण्डलायुक्त से बात करने पर उनके कथनानुसार ‘विधुत अभियंता पडरौना से बात कीजिए। तदुपरांत 1912 पर शिकायत दर्ज करने पर सुनवाई अभी तक नही हुआ। सरकार की इस प्रखर व्यवस्था पर अब किसे दोष दे साहब ? जनता आक्रोशित सत्ता पक्ष के कार्यकर्ताओं से कर रही है सवाल विधायक आपके ,सांसद आपके ,सरकार आपकी इस व्यवस्था का जिम्मेदार कौन ?

मजबूर होकर सत्ता पक्ष की तरफ हमेशा की तरह हमे बेबाक होकर कहना पड़ रहा है आक्रोशित जनता से ‘जब जनहित के मुद्दों पर जनप्रतिनिधि निष्क्रिय हो जाय चाहे सत्ता पक्ष के चाहे विपक्ष के सरकारेंं आपकी आवाज को अनसुना करने लगे तो जनता को सक्रिय होकर जनप्रतिनिधि बन जाना चाहिए। सरकार बन जाना चाहिए क्योंंकि हमेशा से जनमत के आगे बहुमत झुकता है। अक्सर सरकारी अधिकारी भी बातों से ज्यादा लातो की भाषा सुनते है। स्थानीय आक्रोशित और उग्र जनता जेई एसडीओ व विधुत अभियंता के संग वर्तमान सरकार के घेराव के साथ धरना प्रदर्शन, आंदोलन करने के मिजाज में न आ जाये उसके पहले स्थानीय क्षेत्र की विद्युत व्यवस्था जल्द से जल्द बहाल कीजिए। अन्यथा आज से नही आदि से जगजाहिर है। जनता जब अपने मिजाज में आती है तो बहुमत की सरकारें भी जाती है ।

जनपद कुशीनगर में योगी सरकार द्वारा 2 विधुत अभियंता के निलंबित होने के बावजुद विधुत व्यवस्था में सुधार न होना यह दर्शाता है कि अधिकारियों पर योगी सरकार का कोई खौफ नही है। स्थानीय क्षेत्र में वो कौन सी फाल्ट है जो 5 दिन तक नही ठीक हो सकती है साहब, यह लापरवाही सरकार के लिए घातक हो सकती है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva