उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति

कुशीनगरःःकिसानों ने मूसलाधार बारिश में भी दिया साहस का दिया परिचय,आन्दोलन रहा जारी,धृतराष्ट्र बने जिम्मेदार

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कुशीनगर। लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिए भारतीय किसान यूनियन (भानु) की जिला इकाई, कुशीनगर के जिलाध्यक्ष रामचन्द्र सिंह की अध्यक्षता में चीनी मील गेट पर धरना प्रदर्शन के 32वें दिन कार्यकर्ता और किसान बरसात में भी जमे रहे। आज के धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता ढोंढा प्रसाद और संचालन कृष्ण गोपाल चौधरी द्वारा किया गया।

बताते चले लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिये भाकियू (भानु) के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने किसानों को सम्बोधित करते हुए बताया की हमारे द्वारा लगातार मील को चलवाने के लिए सरकार से मांग किया जा रहा है लेकिन सरकार के कान पर जूँ नही रेंग रहा है इससे यह जाहिर होता है किसानों की हितैषी कहलाने वाली बीजेपी सरकार के कथनी और करनी में कितना फर्क है। लोकसभा चुनाव के समय देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का चुनावी भाषण जो कप्तानगंज में हुआ था वह किसानों के साथ छलावा और धोखा था। हकीकत में बीजेपी सरकार कभी भी किसान हितैषी नही हो सकती है यदि ऐसा होता तो लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिए लगातार 32 दिन धरना प्रदर्शन किसानों द्वारा किया जा रहा है और सूबे की अंधी और बहरी सरकार किसानों के दुःख दर्द देखने के लिए कोई जिम्मेदार ब्यक्ति धरना प्रदर्शन स्थल पर नही आया। अन्त में यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री ने कहा की अब पानी सर से ऊपर बह रहा है और वह समय आ गया है की किसानों द्वारा सड़क जाम और रेल रोको जैसे अभियान चलवाने जैसी कार्यवाही करने का। यदि योगी सरकार अबिलम्ब लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिए घोषणा नही करती है तो उपरोक्त कार्यवाही कभी और किसी समय भी हो सकता है जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।इस मौके पर रामनरायन यादव, बबलू खान, प्रभु भारती, चेतई प्रसाद, चांदबली,सरल मियां, ईश्वरशरण कुशवाहा, अबरार अंसारी,सुरेश सिंह, रामऔतार प्रसाद, सुरेन्द्र कुशवाहा, मैना देवी, सुमित्रा देवी, बुधिया देवी, सितारा खातून, लल्लन प्रसाद, रिंकू राजभर, मोहफील अंसारी, शाहिद, बासमती देवी, कबूतरी देवी, समसुन नेशा, सुलेखा नेशा, रमई गौड़, धीरज गौड़, कैलाश प्रसाद,वीरेंद्र पहलवान, चोकट प्रसाद, अनिता देवी, रामअधार प्रसाद, कविता देवी, पुनिया देवी, शकुन्तला देवी,शिवराजी देवी, रामअधार यादव,सोनमती देवी, ओमप्रकाश वर्मा के साथ साथ अन्य कार्यकर्ता और किसान मौजूद रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment