उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति राज्य

कुशीनगरःःब्लॉक सुकरौली के उप चुनाव में प्रमोद ने विधासागर को आठ मतों से पराजित

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुनील कुमार तिवारी.kknews24.कुशीनगर विकास खण्ड सुकरौली के लिए ब्लॉक प्रमुख पद पर शुक्रवार को हुए उपचुनाव में पूर्व ब्लॉक प्रमुख रहे इंद्रमणि सिंह के पुत्र प्रमोद सिंह ने अपने प्रतिद्वंदी विद्यासागर यादव को 8 मतों शिकस्त देकर ब्लॉक प्रमुख पद पर अपना कब्जा जमा लिया। जनपद में क्षेत्र पंचायत के सुकरौली व फाजिलनगर के लिए ब्लॉक प्रमुख पद रिक्त चल रहा था। फाजिलनगर के लिए लक्ष्मी जायसवाल ने सिर्फ पर्चा दाखिल किया। जिससे उन्हें निर्विरोध निर्वाचित मान लिया गया। सुकरौली विकास खण्ड में प्रमुख पद के लिए चार प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया। जिसमे दो उम्मीदवारों ने अपना पर्चा वापस ले लिया। जिससे दो उम्मीदवार प्रमोद सिंह व विद्यासागर यादव के आमने सामने आ जाने से चुनाव रोमांचक हो गया था। भाजपा ने प्रत्याशी के रूप में प्रमोद सिंह को अपना उम्मीदवार घोषित किया था। शुक्रवार को 11 बजे से उपजिलाधिकारी हाटा प्रमोद कुमार तिवारी, चुनाव अधिकारी त्रिवेणी प्रसाद सिंह व सहायक चुनाव अधिकारी श्यामजी त्रिपाठी की देख रेख में प्रारम्भ हुआ। मतदान के दौरान शांति व्यवस्था व सुरक्षा के लिए हाटा कोतवाली, कसया पुलिस व अहिरौली पुलिस के साथ ही पीएसी बल के जवान भी मौजूद रहे। लगभग ढाई बजे तक चले मतदान में 90 क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। 3 बजे के बाद आधे घण्टे चली मतगणना के बाद चुनाव परिणाम की घोषणा चुनाव अधिकारी द्वारा की गई। प्रमोद सिंह को 46 मत व विद्यासागर यादव को मात्र 38 वोट मिले और 6 मत अवैध पाए गए। प्रमुख पद पर प्रमोद सिंह के विजयी होने की सूचना फैलते ही समर्थकों ने ब्लॉक परिसर में नारेबाजी करनी शुरू कर दी। अपने विजयी प्रत्याशी के बाहर आते ही समर्थकों ने उन्हें फूल मालाओं से लाद दिया। इस दौरान विधायक पवन केडिया, नगरपालिका परिषद हाटा अध्यक्ष मोहन वर्मा, संजय सिंह मुन्ना, सीओ राम प्रसाद, कोतवाल कमलेश कुमार सिंह, अशोक कुमार दूबे, बाबुनन्दन सिंह, सत्यनारायण सिंह, सुबाष पांडेय, रामकृपाल मिश्र, राजेश गुप्ता, शैलेन्द्र सिंह, ज्ञान विक्रम सिंह,विवेक उर्फ वंटी सिंह,शैलेश गुप्ता,सोनू सिंह,राजेन्द्र गुप्ता,चन्द्रपाल,सहित अन्य मौजूद रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva