पश्चिमी चम्पारण बिहार बेतिया राज्य सरोकार

बेतिया(प.चं.) :: आर्मी आर्गेनाइजेशन के माध्यम से निमोनिक्स विधि के द्वारा छात्र-छात्राओं को दिया गया प्रशिक्षण

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

शहाबुद्दीन अहमद, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज 24, बेतिया(प.चं.) बिहार(१६ सितंबर)। आर्मी ऑर्गनाइजेशन एव आफताब रौशन सेवा केन्द्र(ट्रस्ट) के द्वारा डीबीटीएल डीजिटल प्रा. लिमिटेड के तत्वधान मेंं पहली बार निमोनिक्स के विषय मे कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन दिप प्रज्वलित करके किया गया। इस कार्यक्रम का उद्घाटन डॉ अजय प्रकाश सदस्य CCIM आयुष मंत्रालय भारत सरकार,डॉ एन.एन. शाही सदस्य जदयू राष्टीय परिषद, कुणाल केतन बैरिया बीडीओ, डॉ नासिर अली खान, डॉ जाबेद कमर, अखिलेशवर द्विवेदी एलडीएम भारत सरकार, आफताब रौशन सेवा केन्द्र(ट्रस्ट) के सचिव मो साहेब एस एस खान उर्फ़ आफताब रौशन, आर्मी ऑर्गेनाइजेश के राष्टीय अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता, हरिश गिडवानी एव संत माइकल स्कूल के कर कमलो द्वारा किया गया।

इस कार्यक्रम के मुख्य वक्ता गिनिज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाले डीके सिंह ने बच्चों को निमोनिक्स अथार्त किसी भी चीज़ को एक बार मे पड़कर जीवन भर तक याद करने की तकनीक को बारीकियोंं से बताई। इस तकनीक को सीखकर बच्चे किसी भी विषय या पूरी डिसनरी एक बार पढ़कर काफी कम समय मे जीवन भर तक याद कर सकेगे या यू कहे वे अपने महीनो दिन की पढाई घंटो मे कर सकेंगे। इस कार्यक्रम मेंं हजारोंं के तदात मे उपस्थित बच्चे एव बच्चियों को डीके सिंह की बात बहुत ही सुपर लगा, साथ ही अभिभावक लोगो ने भी डीके सिंह जी को बधाई दिया। वहीं आर्मी ऑर्गनाइजेशन के अध्यक्ष राकेश कुमार गुप्ता ने कहा की हमारी संस्था शुरू से शिक्षा के लिए कार्य कर रही है। इस तकनीक को सिखने के लिये विधार्थी पांंच दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम मे भाग लेकर जीवन मे उचाईयो को छु सकते हैंं। जिसका रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुका है। आफताब रौशन सेवा केन्द्र(ट्रस्ट) के सचिव मो साहेब एस.एस. खान उर्फ़ आफताब रौशन ने बताया की १९ सितंबर२०१९ को प्रिशिक्षण शुरू होगा। इस तकनीक का प्रयोग महान वैज्ञानिक आइंस्टीन ने किया था। इस कार्यक्रम के मुख्य संस्था के सहयोगी विकास जगनानी, मनोज कुमार गुप्ता, शानिया खान, पुलकित कुमारी, केशव कुमार, सहजाद अली, शिवम मिश्रा, आयुष मिश्रा, रवि भारद्वाज, शिवम कुमार, उपेन्द्र कुमार आदि मौजूद रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva