पटना बिहार राज्य

पटना :: बिहार की मुख्य खबरें एकनजर में एक साथ

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज 24 बिहार (०८ अक्टूबर) की रिपोर्ट….

जलजमाव के साथ महामारी की मार, डेंगू के आठ सौ मरीज मिले

पटना :: राजेंद्र नगर व पाटलिपुत्र कालाेनी में सात दिनों बाद भी तीन फीट तक पानी जमा है। हालांकि प्रशासन का दावा है कि स्थिति पर जल्‍द सुधार होगा।

पटना :: पनपुन व गंगा में पानी घटने से पटना पर मंडराता बाढ़ का खतरा (Danger of Flood) टल गया है। हालांकि, पटना के पॉश इलाके राजेंद्रनगर (Rajendra Nagar) और पाटलिपुत्र (Patliputra) के साथ-साथ गोला रोड (Gola Road) में नौ दिन बाद भी औसतन तीन फीट जलजमाव है। वहां सड़ते पानी से संक्रमण (Contamination) फैल रहा है। उधर, स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी (Principal Secretary, Health) संजय कुमार (Sanjay Kumar) ने माना है कि मच्‍छरों का प्रकोप बढ़ा है। हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा कि इससे महामारी (Epidemic) कर खतरा नहीं है। उन्‍होंने बताया कि मचछरों से बचाव के लिए 24 टीमें छिड़काव (Fogging) में लगी हैं। अनधिकृत आंकड़े के अनुसार पटना में डेंगू (Dangue) के मरीजों की संख्‍या आठ सौ पार कर रही है। वैसे प्रिंसिपल सेक्रेटरी संजय कुमार के अनुसार पटना में अभी तक डेंगू के 640 मरीज मिले हैं।

अभी तक जलजमाव से नहीं मिली निजात

पटना :: हाल की भारी बारिश के बाद हुए जलजमाव से पटना को नौ दिनों बाद भी निजात नहीं मिली है। राजेंद्र नगर, पाटलिपुत्र कालोनी व गोला रोड सहित कई इलाकों में अभी पानी जमा है। जलजमाव से परेशान स्‍थानीय लोगों ने गोला रोड में प्रदर्शन भी किया। उनके अनुसार गोला रोड में पानी घटता नहीं दिख रहा।

राहत व बचाव अपर्याप्‍त, स्थिति नारकीय

राहत व बचाव कार्य अपर्याप्‍त होने के कारण प्रभावित लोगों की स्थिति अभी तक नारकीय बनी हुई है। इस बीच सड़ते पानी व गंदगी ने संक्रमण का खतरा पैदा कर दिया है। बीमारियों में इजाफा हुआ है। पटना में डेंगू महामारी के रूप में फैल गई है।

अभी तक मिले डेंगू के करीब आठ सौ मरीज

जलजमाव से परेशान पटना में डेंगू का कहर बढ़ता जा रहा है। पटना मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल (पीएमसीएच) में डेंगू के 83 नए मरीज मिले। सरकारी अस्पतालों के अलावा निजी अस्पतालों में भी काफी संख्या में डेंगू के मरीज भर्ती हैं। पीएमसीएच में अब तक 775 डेंगू के मरीज आ चुके हैं। वैसे, आधिकारिक आंकड़े की बात करें तो शनिवार तक पूरे बिहार में 980 मरीज मिले थे, जिनमें पटना के 640 मरीज शामिल थे।

पीएमसीएच के उपाधीक्षक डॉ. रंजीत कुमार जैमियार का कहना है कि अस्पताल में डेंगू मरीज की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इमरजेंसी में फिलहाल 20 व शिशु विभाग में भी 10 बेड बढ़ाए गए हैं। इमरजेंसी हेड डॉ.अभिजीत सिंह का कहना है कि आइसीयू में 10 बेड डेंगू मरीजों के लिए रिजर्व किए गए हैं। पटना के सिविल सर्जन डॉ. आरके चौधरी का कहना है कि जिले के सभी प्राथमिक चिकित्सा केंद्रों पर डेंगू मरीजों की जांच की व्यवस्था की गई है। अगर किसी मरीज को तीन दिन से अधिक दिन तक बुखार रहता है तो वह डेंगू की जांच करा ले।

टल गया पटना पर मंडराता बाढ़ का खतरा

जलजमाव से जूझते पटना पर मंडराता बाढ़ का खतरा टल गया है। पुनपुन नदी का जलस्तर 53.51 मीटर पर आने से प्रशासन ने राहत की सांस ली है। हालांकि, अभी भी यह खतरे के निशान से 275 मीटर ऊपर है। वहीं गंगा का जलस्तर भी घट रहा है। गया-पटना और वेना-बिहार शरीफ रेलखंड पर परिचालन अभी ठप है। कई ट्रेनें रूट डायवर्ट कर चलाई जा रही हैं।

गुरुवार और शुक्रवार को पुनपुन के 11 रिंग बांध टूटने के बाद कई गांवों में बाढ़ का पानी फैल गया था। इससे करीब 87 हजार लोग प्रभावित हुए हैं। पीडि़तों के लिए प्रशासन की ओर से 33 कम्युनिटी किचेन में भोजन-पानी एवं बच्चों को दूध की व्यवस्था की गई है। जिलाधिकारी कुमार रवि ने मुख्य बांध को सुरक्षित बताया है।

जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस ने दावा किया है कि पश्चिम और दक्षिण पटना को अगले 24 घंटे में राहत मिल जाएगी। बादशाही नाला से पुनपुन का जलस्तर अभी भी ऊपर है। इससे पटना के दक्षिणी हिस्से से पानी नहीं निकल रहा है। अगले 24 घंटे में उम्मीद है कि नाला से पानी निकलने लगेगा। गंगा में पानी कम हो गया है। दीघा के पास देवना नाला को खोल दिया गया है। इससे पश्चिमी पटना का पानी गंगा में चला जाएगा।

सचिव ने बताया कि इस बार पुनपुन के जलग्रहण क्षेत्र में पांच दिनों तक भारी बारिश हुई। इससे पानी का प्रवाह रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। 1976 में सबसे ज्यादा 53.91 मीटर से मात्र से 30 सेमी नीचे रह गया था। ऐसी स्थिति तीन दिनों तक बनी रही।

भक्ति में सियासत का तड़का, दुर्गा पंडाल में लगीं लालू-राबड़ी की प्रतिमाएं

पटना :: बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी एक बार फिर चर्चा में हैं। दरअसल दुर्गा पंडाल में मां के लालू-राबड़ी प्रतिमाओं को लेकर वे चर्चा में हैं। इस बार उनकी चर्चा किसी घोटाले को लेकर नहीं है और न ही लालू यादव के खराब स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर है। इस बार उनकी चर्चा कोर्ट में सुनवाई को लेकर भी नहीं है। हां, इस दुर्गापूजा में उन्‍हें ‘देवी-देवता’ बना दिया गया है। झारखंड की एक पूजा समिति ने रांची में दुर्गा पंडालों में राबड़ी देवी और लालू यादव को ‘देवी-देवता’ के रूप मं पदास्‍थापित किया है। इसे लेकर वहां के श्रद्धालुओं में काफी नाराजगी है। इसे लेकर राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर से ट्वीट भी किया गया है और इस पर अंगुली उठाने वाले लोगों पर हमला भी किया गया है।

बताया जाता है कि रांची के नामकुम में नवयुवक संघ की ओर मां दुर्गा की प्रतिमा को स्‍थापित किया गया है। नवयुवक संघ की ओर से आकर्षक पंडाल बनाए गए हैं। सप्‍तमी को ही मां दुर्गा के पट खुल गए हैं। श्रद्धालुअों की भीड़ वहां उमड़ रही है। लेकिन इस पूजा पंडाल में भक्ति संग सियासत का तड़का भी देखने को मिल रहा है। इस पूजा पंडाल में बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी की प्रतिमाएं भी देवी-देवताओं की प्रतिमा के संग लगाई गई हैं। बताया जाता है कि इसे लेकर वहां आनेवाले श्रद्धालुओं में काफी नाराजगी है। साथ ही पुजारी ने भी नाराजगी जताई है। रांची, झारखंड के नवयुवक संघ को राजद परिवार तहेदिल से आभार प्रकट करता है कि आपने ग़रीबों, उपेक्षितों, उत्पीडितों, उपहासितों, वंचितो के मसीहा लालू जी के सामाजिक कार्यों को कला के माध्यम से रेखांकित करने का सराहनीय कार्य किया है। आप इसके लिए बधाई के पात्र हैं।

इधर राष्‍ट्रीय जनता दल की ओर से इसे लेकर ट्वीट किया गया है। लालू-राबड़ी की प्रतिमाओं को टैग करते हुए राजद ने ट्वीट किया है- ‘रांची, झारखंड के नवयुवक संघ को राजद परिवार तहेदिल से आभार प्रकट करता है कि आपने गरीबों, उपेक्षितों, उत्पीडितों, उपहासितों, वंचितों के मसीहा लालू जी के सामाजिक कार्यों को कला के माध्यम से रेखांकित करने का सराहनीय कार्य किया है। आप इसके लिए बधाई के पात्र हैं। आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ।’ इतना ही नहीं, राजद की ओर से एक और ट्वीट किया गया है और मीडिया की ओर से उठाए गए सवाल पर चोट की गई है। दूसरा ट्वीट में उसने लिखा है- आसाराम की पूजा की जा सकती है। राम-रहीम की पूजा की जा सकती है। चिन्मयानंद की पूजा की जा सकती है। पर विवाद तब उठता है जब हाथ जोड़ दुर्गा के सामने खड़े लालू जी और राबड़ी देवी जी की प्रतिमा लगा दी जाती है। विवाद तब उठता है जब कमल की जगह सजावट के लिए पंडाल में लालटेन लगा दिया जाता है।

नीतीश कुमार निर्विरोध बने जदयू के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष, दोबारा मिली पार्टी की कमान

पटना,*बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार निर्विरोध जदयू के अध्यक्ष बने। रविवार को अपराह्न तीन बजे नाम वापसी का समय समाप्त होते ही हुई उनके निर्वाचन की घोषणा कर दी गई। दिल्‍ली में उनके प्रतिनिधि संजय गांधी ने जीत का प्रमाणपत्र किया। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में बाढ़-जमाव और दुर्गापूजा के कारण नामांकन के समय भी दिल्‍ली नहीं जा सके थे और आज भी प्रमाण पत्र लेने नहीं जा सके। ऐसे में उनके प्रतिनिधि ने दिल्‍ली में नीतीश कुमार के बदले प्रमाण पत्र प्राप्‍त किया। इधर नीतीश कुमार के दोबारा राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनने पर पार्टी के नेताओं समेत एनडीए के लोगों ने बधाई दी है।

बता दें कि दो दिन पहले शुक्रवार को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से दिल्ली में जंतर-मंतर स्थित जेडीयू के केंद्रीय कार्यालय में उनके प्रतिनिधि विधान पार्षद संजय कुमार सिंह उर्फ गांधी जी ने चार सेट में पार्टी के राष्ट्रीय निर्वाचन पदाधिकारी अनिल हेगड़े के समक्ष नामांकन पत्र दाखिल किया था। उनके अलावा किसी और ने नामांकन दाखिल नहीं किया। रविवार को अपराह्न तीन बजे तक नाम वापसी का अंतिम समय था। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए नामांकन के बाद शनिवार को नामांकन पत्र की जांच हुई।

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव संपन्न होने के बाद पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिए अब प्रशिक्षण का कार्यक्रम आरंभ किया जाएगा। इस बार पार्टी ने तय किया है कि युवा कार्यकर्ताओं की टीम को पटना में प्रशिक्षण देकर उनके माध्यम से जिलों में प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन होगा। प्रशिक्षण में चुनाव को केंद्र में तो रखा ही जाएगा, साथ ही साथ सरकार द्वारा चलाए जा रहे सामाजिक अभियान के बारे में भी जेडीयू अपने कार्यकर्ताओं को विशेष रूप से बताएगा।

गिरिराज की माफी पॉलिटिक्‍स के निशाने पर फिर CM नीतीश

पटना :: बीजेपी के फायरब्रांड नेता व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर लगातार हमलावर हैं। बिहार में बाढ़ को लेकर उनके ताजा ट्वीट पर फिर सियासत गर्म है। बिहार में बाढ़, खासकर पटना में जलजमाव (Warerlogging) को लेकर सियासत गर्म है। इस मुद्दे पर सत्‍ताधारी राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में भी तलवारें खिंच गईं हैं। इसकी शुरुआत केंद्रीय मंत्री व बिहार के बेगूसराय से भारतीय जनता पार्टी (BJP) सासंद गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को घेरते बयान से हुई। गिरिराज सिंह ने फिर नया बयान दिया है। उन्‍होंने दुर्गापूजा मेला में बाढ़ व जलजमाव के कारण हो रही परेशानी के लिए क्षमा मांगी है। उधर, गिरिराज के बयान पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। जेडीयू के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी (KC Tyagi) ने ऐसे बड़बोले नेताओं के बयन पर रोक लगाने की मांग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) व बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह (Amit Shah) से की है।

अपने ट्वीट (Tweet) में गिरिराज सिंह ने लिखा है कि दुर्गापूजा (Durga Puja) का मेला शुरू हो गया है। उन्‍होंने एनडीए की तरफ से उन सभी लोगों से क्षमा मांगी है, जिनके यहां बाढ़ के कारण पूजा, पंडाल एवं मेला का आयोजन नही हो पाया है। गिरिराज के इस ट्वीट को उनके पहले के ट्वीट का विस्‍तार माना जा रहा है, जिसमें उन्‍होंने स्थिति के लिए सीधे तौर पर राज्‍य सरकार को जिम्‍मेदार माना था। ट्वीट में उन्‍होंने एनडीए की तरफ से माफी मांगी है। एनडीए में जेडीयू भी है।

उन्‍होंने पहले के ट्वीट में पटना में जल-जमाव के लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) व उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) को जिम्‍मेदार ठहाराया था। बाद में एक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने कहा कि बिहार में बीजेपी व जेडीयू दोनों की सरकार है, इसीलिए जवाबदेही दोनों की है। एक अन्‍य ट्वीट में उन्‍होंने सरकार पर नामामी का ठीकरा फोड़ते हुए उससे जनता से माफी मांगने की बात कही थी। उन्‍होंने एक अन्‍य ट्वीट में आरोप लगाया था कि सरकारी अधिकारी बीजेपी नेताओं के फाेन नहीं उठाते।

गिरिराज सिंह के बयानों व ट्वीट से बिहार एनडीए में भूचाल आया हुआ है, लेकिन वे थमते नहीं दिख रहे। उनका ताज ट्वीट इसी की एक कड़ी है। गिरिराज के बयानों का जेडीयू ने विरोध किया है। उनके ताजा ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए जेडीयू के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ऐसे बड़बोले नेताओं के बयनों पर रोक लगाएं, जिनकी वजह से एनडीए की छवि खराब हो रही है। इसके एक दिन पहले भी केसी त्‍यागी ने कहा था कि कुछ बीजेपी नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर विपक्ष से भी तीखे हमले कर रहे हैं। बिहार में जेडीयू के प्रवक्‍ता निखिल आनंद (Nikhil Anand) ने कहा है कि गिरिरज सिंह ‘बोल बच्‍चन’ टाइप नेता हैं, जिनकी बातों को कोई नोटिस नहीं लेता।

गिरिराज सिंह के बयान पर और भी कई जेडीयू नेताओं ने बड़े बयान देते रहे हैं। जेडीयू नेता व मंत्री अशोक चौधरी (Ashok Chaudhary) ने कहा कि गिरिराज को विवादित बयान देने की आदत है। वे लोकसभा चुनाव के समय नीतीश कुमार के पैर पकड़ रहे थे और आज ट्वीट कर हमले कर रहे हैं। जेडीयू नेता व मंत्री श्रवण कुमार (Shrawan Kumar) ने कहा कि जो गिरिराज सिंह केवल चर्चा में बने रहने के लिए बयानबाजी करते हैं। वे बताएं कि केंद्रीय मंत्री रहते हुए उन्होंने बिहार के लिए क्या किया है? जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह (Sanjay Singh) ने गिरिराज सिंह को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के सामने उनकी हैसियत दिखाते हुए ‘डिरेल’ (Derail) बताया है।

खादी में नजर आएंगे एलएस कॉलेज के छात्र और शिक्षक, होने जा रही यह व्यवस्था

मुजफ्फरपुर :: जिस कॉलेज में बापू ने रखा कदम वहां के छात्र शिक्षक और कर्मचारी के लिए ड्रेस कोड होगा खादी वस्त्र। एलएस कॉलेज कर रहा विचार बापू के जीवन-मूल्यों को अपने अंदर उतारने का संकल्प।

महात्मा गांधी ने चंपारण सत्याग्रह आंदोलन के दौरान जिस लंगट सिंह महाविद्यालय में कदम रखा, वहां खादी वस्त्र अब ड्रेस कोड में शामिल होगा। जल्द ही छात्र, शिक्षक व कर्मचारी खादी वस्त्र धारण करेंगे। मकसद है कि गांधी को इस कैंपस के कण-कण में शिद्दत से महसूस किया जाए। प्राचार्य प्रो. ओमप्रकाश राय की अध्यक्षता में हुई बैठक में इसपर विचार-विमर्श हुआ। प्राचार्य ने कहा कि खादी वस्त्र ही नहीं, विचार भी है। इसे धारण करने से हमारी भावना गांधी-विचार से ओतप्रोत होगी। खादी पहनने में भी आरामदायक व त्वचा के लिए फायदेमंद होता है।

गौरतलब है कि इसी कॉलेज कैंपस में गांधी कूप बापू की याद दिलाता है। 11 अप्रैल, 1917 की सुबह जब गांधीजी इस कैंपस में कदम रखे थे, तब उन्होंने कला ब्लॉक के समीप बने कूप पर स्नान किया था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस कूप पर स्नान करते बापू की प्रतिमा का पिछले वर्ष ही अनावरण किया। इस कूप को राष्ट्रीय धरोहर घोषित करने व गांधी स्मृति संग्रहालय के रूप में विकसित करने की मांग होती रही है। प्राचार्य के साथ बैठक में डॉ. एसके मुकुल, डॉ. एसआर चतुर्वेदी, डॉ. वीरेंद्र कुमार सिंह, डॉ. अवधेश कुमार, डॉ. पंकज कुमार, डॉ. राजीव कुमार, डॉ. ललित किशोर मौजूद थे। शिक्षकों ने खादी से जुडऩे का संकल्प लिया। डॉ. अवधेश कुमार व डॉ. एसआर चतुर्वेदी ने कहा कि भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में खादी का बहुत महत्व रहा है। गांधीजी ने गांवों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए खादी के प्रचार-प्रसार पर बहुत जोर दिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक समारोह में खादी को बढ़ावा देने के लिए नारा दिया था-‘खादी फॉर नेशन, खादी फॉर फैशन।Ó खादी वस्त्र की मांग और उत्पादन बढऩे से बेरोजगारी भी दूर होगी। खादी उद्योग से जुड़े श्रमिकों के जीविकोपार्जन के लिए इस वस्त्र का अधिक इस्तेमाल फायदेमंद होगा।

प्राचार्य का मानना है कि बापू को सिर्फ दिवस विशेष भर याद कर लेने से उनकी प्रासंगिकता सिद्ध नहीं होती। उन्हें प्रति दिन स्मरण करना चाहिए। उनके बताए मार्ग पर चलकर उनके जीवन-दर्शन को अपने अंदर उतारने की कोशिश करनी चाहिए। कॉलेज कैंपस को नशामुक्त बनाया जाएगा। गांधी दर्शन पर संगोष्ठी एवं कार्यशाला वर्षभर आयोजित होगी। गांधी दर्शन और उनके सामाजिक कार्यक्रमों पर बीएमसी विभाग डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बनाएगा। गांधी म्यूजियम का निर्माण करने पर विचार हो रहा है। गांधी कूप के पास मनोरम पार्क जल्द ही बनने वाला है। इसपर डेढ़ करोड़ की लागत आएगी। इस पार्क में रंग-बिरंगी लाइटों पर फाउंटेन का नजारा भी देखने को मिलेगा।

मछली मार रहे मछुआरे युवक पर मगरमच्छ ने किया हमला

बगहा(प.चं.) :: मगरमच्छ के हमले में ज़ख्मी होकर युवक ने किसी तरह बचाई जान मछली जाल से मछुआरे ने मगरमच्छ से लड़कर बचाई जान। गंडक नदी तट के छठिया घाट पर हुई घटना। चौतरवा थाना क्षेत्र के रतवल निवासी योगीन्द्र प्रसाद को इलाज़ के लिए अस्पताल में कराया गया भर्ती। चौतरवा थाना क्षेत्र के ग्राम रतवल निवासी योगेंद्र तुरहा को आज सुबह रतवल छठिया घाट पुल के समीप मछली पकड़ने के दौरान मगरमच्छ ने जोरदार हमला कर उन्हें बुरी तरह घायल कर दिया।वही मौजूद अन्य मछुआरों की मदद से उन्हें बचा लिया गया है।साथ ही उनके परिजनों द्वारा गांव में प्राथमिक उपचार करा के उन्हें बगहा अनुमंडलीय अस्पताल ले जाया जा रहा है।मामले की जानकारी देते हुए योगीन्द्र तुरहा ने बताया कि सुबह रतवल छठिया घाट पुल के समीप कमर भर पानी में खड़ा होकर मछली के लिए बिछाए जाल को खींच रहा था की अचानक मगरमच्छ ने मुझपर हमला कर दिया।जिससे मेरे दोनों पैरों को बुरी तरह जख्मी हो गए है।

हमेशा की तरह फिर किसान का बेटा आया घायल गरीब के काम

बगहा(प.चं.) :: सदर अस्पताल में इलाज के लिए पहुँचे सड़क दुर्घटना में घायल कल्याणपुर थाना अंतर्गत संभुचक निवासी एक युवक जो पिपरा कोठी NH 28 पर एक दुर्घटना में घायल हो गया था, जो सदर अस्पताल में लाया गया पर यहां तो न कोई स्टाफ था न कोई मरीज को उतार कर स्ट्रेचर पर रख कर अस्पताल में ले जाने वाला, तभी हमेशा की तरह सन ऑफ किसान अनिकेत रंजन वहां पहुँचे और खुद से स्ट्रेचर उठा कर घायल युवक को इलाज के लिए डॉक्टर के पास ले गए ,जहा उस युवक की इलाज शुरू हो गई है। अत्यधिक घायल हो जाने के कारण उक्त मरीज को किसी निजी अस्पताल में ले जाने के लिए उनके परिजनों को बुला कर बताया गया है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment