पटना बिहार राज्य

पटना : बिहार की महत्वपूर्ण खबरें

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी बिहार(०२ नवंबर) की रिपोर्ट……

इस वर्ष भी तीन जोड़ी पूजा स्पेशल ट्रेनों को रेल मंत्रालय ने वाया बगहा- नरकटियागंज- बेतिया होकर चलाने का निर्णय लिया है। बगहा बनने के नगर सांसद सतीश चंद्र दुबे के अथक प्रयास से इस साल दिवाली छठ पूजा के शुभ अवसर पर निम्न ट्रेनों की मांगों को लेकर की गई ट्रेनों की शुरुआत। जिसका विवरण निम्न है:-
1- गाड़ी संख्या- 04082, अमृतसर से सहरसा एक्सप्रेस 04.11 और 08.11 को अमृतसर से व 05.11 और 09.11 को सहरसा से। 2- गाड़ी संख्या- 04048, दिल्ली से सहरसा एक्सप्रेस 03.11 और 07.11 को दिल्ली से और सहरसा से 05.11 और 09.11 को। 3- गाड़ी संख्या- 05531, दिल्ली से सहरसा एक्सप्रेस 18.11 व 22.11 दिल्ली से और 16.11 और 20.11 को सहरसा से।

गांधी आए आपके द्वार, लेकर स्वच्छता की बात

बगहा : गांधी जी की कर्मभूमि चपांरण के बगहा 2 प्रखंड में स्वच्छता को लेकर गांधी आ रहै है आपके द्वार लेकर स्वच्छता की। जिस तरहा गांधी जी ने चपांरण से सत्याग्रह की शुरुआत की थी। अग्रेजों के खिलाफ ठीक उसी प्रकार गंदगी रुपी अस्वच्छता को लेकर गांधी जी फिर आपके बगहा 2 से आपके प्रखंड, आपके गांव, आपकी पंचायत,आपके घर तक स्वच्छता की बात लेकर आ रहै है। जिस तरह महात्मा गांधी ने आंदोलन चलाकर अग्रेंजो यहा से भगा दिया और हमें आजादी दिलाई। उसी प्रकार हमें गंदगी के खिलाफ एक लडाई और लडना है और ये लडाई किसी बाहरी दुश्मन से नही हमें आपने से लडना है गंदगी के खिलाफ। ताकि अपने आने भविष्य को एक सुन्दर-स्वच्छ समाज दे सकें। आशा आप सभी इस कार्यक्रम में भाग लेकर चपांरण का रण अभियान को ऊपरी शिखर तक ले जाएगें।

अंधकार से प्रकाश की तरफ लाता है दिवाली का महापर्व

बगहा : परम्परागत रूप से मनाये जाने वाले दीपों के पर्व व आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश कि विजय को दर्शाने वाला, *तमसो मा ज्योतिर्गमय* का पावन संदेश देने वाला त्यौहार दीपावली का पर्ब को मनाने एवं अपने घरों को सजाने में लगे लोग। भारत मे त्योहारो के दर्शन के महत्व को समझाने वाले मुख्य पर्व दीपावली पर दीपको की जगमगाहट की रोशनी से हर देशवासी की मन, कर्म व भावना आलोकित हो। इस अवसर पर सभी लोग अपने दरवाजे के सामने मनमोहक रंगोली सजाकर दीपक जलाये जाते है। माँ लक्षमी की पूजा अर्चना की जाती है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva