पटना बिहार राज्य

पटना :: बिहार की दिनभर की मुख्य खबर एक नजर में

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, बिहार (24 जनवरी २०२०) की रिपोर्ट……

जिले के भीमपुर थाना के समीप NH57 आज सुबह एक बड़ा हादसा यात्री बस के चपेट में आने से एक महिला की मौत

 सुपौल :: विगत कुछ महीनों से NH 57 पर दुर्घटना की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है। जानकारी के अनुसार बस ड्राइवर की लापरवाही के कारण इतना बड़ा हादसा हो गया । बताया जा रहा है कि महिला अररिया जिला के नरपतगंज अपने मायके से भीमपुर आ रही थी, बस से उतरने के क्रम में पैर फिसलने पर सड़क पर गिरी और बस चल दिया परन्तु बस ड्राइवर का इस गड़बड़ी पर ध्यान नही गया और महिला बस के चक्के के नीचे आ गई । जब लोगों ने हल्ला किया तब जा कर ड्राइवर ने बस रोकी।

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत चिकित्सकों व एएनएम को दी गयी प्रशिक्षण

·  एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का हुआ आयोजन ·  बेहतर कार्यान्वयन को लेकर दी गयी जानकारी। छपरा :: राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के तहत चलंत चिकित्सा दलों का एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन जिला स्वास्थ्य समिति के सभागार में किया गया। जिसकी अध्यक्षता जिला कार्यक्रम प्रबंधक अरविन्द कुमार ने की। प्रशिक्षण में सोनपुर, दरियापुर, दिघवारा, परसा, अमनौर मढौरा प्रखंड के आरबीएसके के चिकित्सक, एएनएम, फार्मासिस्ट शामिल थे। मढौरा के डॉ. गुंजन कुमार के द्वारा ट्रेनिंग दी गयी। आरबीएसके-वेब पोर्टल पर ऑनलाइन रिपोर्टिंग  के बारे में बताया गया। वेबपोर्टल पर रिपोर्टिंग करते समय किन बातों को ध्यान रखना है इसप विस्तार से चर्चा की गयी। इस मौके पर डीपीएम ने कहा कि बच्चों की नियमित स्क्रीनिंग की औसत संख्या बढ़ायें। गुणवत्तापूर्ण स्क्रीनिंग करने, बच्चों को समय पर रेफर करने एवं आरबीएसके के तहत बच्चों को अधिकाधिक लाभान्वित करने का निर्देश दिया। बच्चों की बेहतर सेहत को लेकर स्वास्थ्य विभाग सक्रिय है। अब स्वास्थ्य विभाग बुखार जैसे सामान्य बीमारियों से लेकर बच्चों की जन्मजात विकृतियों एवं कई अन्य गंभीर जटिलताओं पर भी ध्यान दे रही है। इसको लेकर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) चलाया जा रहा है। जिसमें जिला स्तर पर गठित आरबीएसके टीम द्वारा सरकारी स्कूलों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों पर बच्चों में स्वास्थ्य जटिलता की जांच की जा रही है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में अब तक लाखों बच्चों का इलाज किया गया है। साथ ही इन सभी बच्चों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से हेल्थ कार्ड भी उपलब्ध भी कराया गया है। इस मौके पर डीपीएम अरविन्द कुमार, डीएमएनई भानू शर्मा, आरबीएसके के जिला समन्वयक डॉ. अमरेंद्र कुमार सिंह, डीसीएम ब्रजेंद्र कुमार सिंह, मनोहर कुमार, प्रिंस राज, विनोद कुमार समेत अन्य मौजूद थे। आरबीएसके के जिला समन्वयक डॉ. अमरेंद्र कुमार सिंह ने प्रशिक्षण के दौरान आरबीएसके चलंत चिकित्सा दलों को नियमित भ्रमण पर अधिक जोर देने की बात कही। यह बताया गया कि स्कूलों एवं आंगनबाड़ी केंद्रों का दौरा कर अधिक से अधिक बच्चों की स्वास्थ्य जांच करें। जांच में किसी भी तरह की जटिल समस्या का पता चले तब तुरंत उचित रेफ़रल का भी ध्यान रखें। इससे सही समय पर डिफेक्ट की पहचान कर बच्चों को उचित देखभाल प्रदान करने में सहूलियत होगी।
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत शून्य से 18 वर्ष तक के सभी बच्चों के फोर डी पर फोकस किया जाता है, जिसमें डिफेक्ट एट बर्थ,  डिफिशिएंसी,  डिसीज,  डेवलपमेंट डिलेज इंक्लूडिंग डिसएबिलिटी यानि किसी भी प्रकार का विकार, बीमारी, कमी और विकलांगता है। इसमें 38 बीमारियों को चिह्नित किया गया है। आरबीएसके में शून्य से 18 वर्ष तक के सभी बच्चों की बीमारियों का समुचित इलाज किया जाता है। शून्य से छह वर्ष तक के बच्चों की स्क्रीनिंग आंगनबाड़ी केंद्रों में होती है, जबकि छह साल से अठारह साल तक के विद्यालय में पड़ने वाले बच्चों के स्वास्थ्य की देखभाल की जाती है।

सिवान :: जिले के सिसवन में एक 14 साल की नाबालिक छात्रा के साथ कोचिंग संचालक व शिक्षकों ने मिलकर गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया। बताया जा रहा है कि पीड़ित छात्रा बुधवार को दोपहर दो बजे चैनपुर ओपी के ब्रिलियंट कोचिंग में पढ़ने गई थी। वहां पर कोचिंग संचालक व शिक्षकों ने मिलकर उस छात्रा से गैंगरेप किया। शाम पांच बजे तक छात्रा घर नहीं आईं तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की गई। स्थानीय लोगों ने बताया कि किशोरी कोचिंग के बिल्डिंग के दो मंजिला भवन में बेहोशी हालत में मिली। मोतिहारी :: दो बाईक की आमने-सामने हुई टक्कर मे 2 बाईक सवार की हुई मौत। वही 2 बाइक सवार की हालत गंभीर। ईलाज के लिए मोतिहारी रेफर। चिरैया थाना क्षेत्र के ढाका-मोतिहारी पथ के सीतलपट्टी नर्सरी के समीप की है घटना।

मधुबनी/ लौकही :: समाजिक एकता मंच लौकही के द्वारा अमचीरी मे लिखित प्रतियोगिता परिक्षा का आयोजन हुआ। जिसमें 8 वीं कक्षा से लेकर 10 वीं कक्षा के सैकड़ों प्रतिभागीयो ने हिस्सा लिया प्रथम दुतीय तथा तृतीय विजेता को पुरूस्कृत भी किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन मांनीय सांसद आरपी मंडल कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व विधायक सतीश कुमार साह अध्यक्षता कर रहे थे मनोज बिहारी संयोजक जगदीश मंडल ,विनोद मंडल,बाबूनंद मंडल, जयकिशोर मंडल, बद्रीनारायण राम,दयानन्द कुमार सिंह, दिनेश कुमार मंडल,हित नरायन साह, संजीत कुमार मंडल,इन्देव मंडल, शयाम कुमार साह, फुलदेव कुमार मंडल, शिवकुमार मंडल एवं क्षेत्र के समस्त गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

शहाबुद्दीन अहमद, बेतिया प.चं. बिहार, की रिपोर्ट……

निरीक्षण व अनुश्रवण के संचालन हेतु ग्रामीण विकास विभाग की टीम का हुआ पदस्थापन

बेतिया(प.च.) :: जिले में चल रहे सरकारी योजनाओं को बेहतर संचालन, क्रियान्वयन, निरीक्षण, अनुश्रवण के लिए ग्रामीण विकास विभाग के तहत,बीआरडीए अथात बिहार रूरल डेवलपमेंट सोसाइटी द्वारा 3 सदस्य टीम बेतिया के लिए पदस्थापन की गई है। इस टीम में शामिल पदाधिकारी, प्रोग्रामिंग, फाइनेंस और ऑडिट के कार्य को संचालित करेंगे, इस टीम में डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम ऑफिसर के पद पर कृष्णकांत सिंह डिस्ट्रिक्ट फाइनेंस मैनेजर के पद पर रंजीत कुमार एवं डिस्ट्रिक्ट ऑडिट मैनेजर के पद पर विजय कुमार ने योगदान दिया है ।प्रोग्राम फाइनेंस और ऑडिट के मामले की जांच पड़ताल कर यह अधिकारी अपना रिपोर्ट उप विकास आयुक्त को सौंपेंगे। इससे योजनाओं के कार्यान्वयन में पारदर्शिता बनी रहेगी, इनकी जांच दल के रूप में भी कार्य संपादित किया जाएगा। ग्रामीण विकास विभाग ने क्षेत्र में संचालित हो रहे सरकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए कई तरह की योजनाएं बनाई हैं, लेकिन समय-समय पर निरीक्षण और अनुसरण कार्य नहीं होने अथवा अन्य अनियमितता के कारण आम आवाम इन योजनाओं के लाभ से वंचित रह जा रही है ,इस प्रकार की अनियमितता को दूर करने के लिए ग्रामीण विकास विभाग ने बी आर डी ए यानी बिहार रूरल डेवलपमेंट सोसाइटी के तहत इन तीनों अधिकारियों को जिले में पदस्थापित किया गया है।

राष्ट्रीय पर्यावरण रत्न सम्मान” से सम्मानित होंगी गंगा संरक्षण के लिए आमरण अनशन पर बैठने वाली बिहार की बेटी साध्वी पद्मावती

 बेतिया(प.च.) :: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी 150 वीं जन्म शताब्दी पर पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में अतुल्य योगदान के लिए” राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी 150वीं जन्म शताब्दी राष्ट्रीय पर्यावरण रत्न सम्मान” से सम्मानित होंगी गंगा संरक्षण के लिए आमरण अनशन पर बैठने वाली बिहार की बेटी साध्वी पद्मावती! राष्ट्रीय बालिका दिवस पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों द्वारा सर्वसम्मति से लिया गया निर्णय! आज दिनांक 24 जनवरी 2020 को राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सभागार सत्याग्रह भवन में किया गया !जिसमें विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ,बुद्धिजीवियों एवं छात्र छात्राओं ने भाग लिया! इस अवसर पर सर्वप्रथम स्वतंत्रता आंदोलन मे एवं राष्ट्र के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीरांगनाओं को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर की गई जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता एवं अखंडता के लिए अपनी प्राणों की आहुति दी !इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ0 एजाज अहमद ने कहा कि राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत 2008 में भारत सरकार ने बालिकाओं को कंधे से कंधा मिलाकर राष्ट्र के निर्माण में क कड़ी बनने के लिए प्रेरित जाए ! भारत सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का निर्णय लिया गया !इसी दिन इंदिरा गांधी ने पहली बार प्रधानमंत्री की कुर्सी संभाली थी !राष्ट्रीय बालिका दिवस देश के उन बालिकाओं के लिए समर्पित है जिन्होंने राष्ट्र की कड़ी बन भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का प्रयास किया है! इस अवसर पर सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी 150 वी जन्म शताब्दी पर पर्यावरण संरक्षण के लिए अतुल्य योगदान देने वाले विभूतियों को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी 150वी जन्म शताब्दी पर” राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय पर्यावरण रत्न सम्मान” से सम्मानित किया जाए! इसी कड़ी में से गंगा संरक्षण के लिए विगत 40 दिनों से अनशन पर बैठी बिहार की बेटी साध्वी पद्मावती को चयनित किया गया है! यह सम्मान सत्याग्रह फाउंडेशन एवं बिहार वासियों की तरफ से एक छोटा सा प्रयास है !ताकि नई पीढ़ी पर्यावरण संरक्षण एवं जलवायु परिवर्तन के रोकथाम के लिए आगे आए! विगत 40 दिनों से गंगा संरक्षण के लिए अनशन पर बैठी बिहार की नालंदा जिले से 23 वर्षीय साध्वी पद्मावती हरिद्वार में इस इंतजार में अनशन पर बैठी है ताकि भारत सरकार गंगा को बचाने के लिए ठोस एवं प्रभावी कदम उठाए! स्मरण रहे कि ब्रह्मचारी निगमानंद एवं 2018 में जाने-माने वैज्ञानिक स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद उर्फ जीडी अग्रवाल ने गंगा बचाने के अभियान में अपने प्राणों की आहुति दे दी, ताकि आने वाले नई पीढ़ी के लिए पर्यावरण को सुरक्षित एवं संरक्षित किया जा सके! इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर डॉ नीरज गुप्ता एवं बिहार विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के डॉक्टर शाहनवाज अली ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की दिशा में साध्वी पद्मावती का योगदान बेनजीर है जिन्होंने गंगा पर बन रहे बांधों को पर अविलंब रोक लगाने एवं गंगा के लिए कानून बनाने की वकालत की है!

65 लाख से अधिक अभिवंचित व आदिवासी बच्चों की शिक्षा दान का एकल विद्यालय फाउंडेशन ने बनाया इतिहास : गरिमा

 बेतिया(प.च.) :: नप सभापति गरिमा सिकारिया ने शुक्रवार को मझौलिया अंचल के मोती लाल उच्च विद्यालय में एकल अभियान के तहत बाल मेला एवं मंच सम्मान कार्यक्रम का समारोह पूर्वक उद्घाटन किया। जिसमें मुख्य अतिथि नगर परिषद् सभापति श्रीमती गरिमा देवी सिकारिया एवं भारतीय किसान संघ (भानू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनीष उपाध्याय के कर कमलो से दीप प्रज्वलन हुआ I इस मौके पर सभपति गरिमा देवी सिकारिया ने कहा की केवल सामाजिक सहयोग से देशभर के 65 हजार गांवों में एक लाख से अधिक एकल अभियान विद्यालय चल रहे हैं। जहां 26 लाख से अधिक अभिवंचित व आदिवासी परिवारों के बच्चे निःशुल्क प्रारम्भिक शिक्षा नियमित पाने लगे हैं। धनबाद के टुंडी नामक गांव से 1986 में पहले एकल विद्यालय की शुरुआत से अब तक एक लाख से अधिक स्कूलों का संचालित होने वाली उपलब्धि अत्यंत सुखद व गौरवशाली है। आज सुदूरवर्ती व पिछड़े गांव में समाज के पिछड़े व अभिवंचित वर्ग के बच्चों के लिये शिक्षा के इस मंदिर के कार्यक्रम में मैं खुद को आज गौरवान्वित महसूस कर रहीं हूं। फाउंडेशन के पदाधिकारीगण से मेरा आग्रह होगा कि मझौलिया के और ऐसे गांवों की पहचान करके ऐसे एकल विद्यालय और खोले जांय। ऐसे अवसर पर मैं अपनी सहभागिता देकर खुद को भाग्यशाली समझूंगी। एकल अभियान के अंचल अध्यक्ष नरेन्द्र त्रिपाठी, सचिव राजन सिंह, कोषाध्यक्ष बुधन चौधरी साथ ही अंचल बेतिया के अध्यक्ष पंकज उपाध्याय ने अपनी सहभागिता दिया I बेतिया एवं मझौलिया के 30-30 विद्यालय के बच्चे एवं आचार्य शामिल हुए I एकल अभियान के कुल 60 विद्यालय बेतिया एवं मझौलिया में चल रहे हैं, जो विश्व हिन्दू परिषद् की सेवा प्रतिकल्प हैं I

पड़ोसियों के द्वारा महिला व उसके परिजनों को मारपीट कर बुरी तरह किया जख्मी, प्राथमिकी दर्ज

बेतिया(प.च.) :: स्थानीय मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रानी पकड़ी गांव में पड़ोसियों ने घर में घुसकर चांद मियां की पत्नी जरीना खातून व उसके परिजनों को मारपीट कर बुरी तरह जख्मी कर दिया, जख्मी हालत में सभी लोगों को बेतिया सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है, इस बाबत जरीना ने मुफस्सिल थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है ।थाना अध्यक्ष ,अशोक कुमार ने संवाददाता को बताया कि जरीना के बयान पर उसके पड़ोसी हारून मियां, अजीज मियां, असलम मियां, शकीला खातून के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है ।मामले की जांच कर आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा। प्राथमिकी में जरीना ने बताया है कि वह घर में अकेली थी ,वह खाना बना कर रखी थी तभी आरोपियों का बकरी आकर खाना खा गया , इसी क्रम में महिला के द्वारा बोले जाने पर पड़ोसियों ने आकर महिला को जबरदस्त पिटाई कर दी तथा उसके साथ-साथ उसके परिजनों को भी जबरदस्त मारपीट कर बुरी तरह जख्मी कर दिया, सभी का इलाज बेतिया सदर अस्पताल में चल रहा है। पुलिस अपनी कार्रवाई में लग गई है।

मुर्गी पालन का बढ़ावा देने में अनुसूचित जाति का सहयोग आवश्यक होगा : जिला पशुपालन पदाधिकारी

बेतिया(प.च.) :: मुर्गी पालन का बढ़ावा देने में अनुसूचित जाति के लोगों को सहयोग लेना आवश्यक होगा। इसके लिए विभाग द्वारा पहल प्रारंभ कर दी गई है ,जिला पशुपालन पदाधिकारी के द्वारा संवाददाता को बताया गया कि इस संबंध में सभी बीडियो से अनुसूचित जाति की सूची की मांग की गई है। पशुपालन कार्यालय के द्वारा सूची प्राप्त होते ही कार्य योजना तैयार कर दी जाएगी ।जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ शकील अहमद ने संवाददाता को बताया कि सरकार के द्वारा निर्देश है कि अनुसूचित जाति के लोग अगर मुर्गी पालन करना चाहे तो उन्हें ₹10 में मुर्गा का एक चूजा दिया जाएगा ताकि मुर्गा का पालन कर अपनी आर्थिक स्थिति के साथ ही जिले का लक्ष्य भी जल्दी ही विभाग से प्राप्त होने वाला है ,यही कारण है कि पूर्व से ही सभी प्रखंडों की सूची की मांग की गई है ,इसके लिए जिले के सभी पशु चिकित्सा पदाधिकारी को भी निर्देशित कर वदिया गया है ।कार्यालय सूत्रों के अनुसार दिए जाने वाले मुर्गा का 3 माह में तैयार हो जाते हैं ,जिसके बाद मुर्गा का पालन करने वाले इसकी बिक्री कर अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकते हैं ,जिससे उनके आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो जाएगी।

जिले के 315 पंचायत के 4194 वार्ड में पेयजल निश्चय योजना की शुरुआत होगी

बेतिया(प.च.) :: जिले अंतर्गत 315 पंचायतों के 4194 वार्ड में मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना एवं मुख्यमंत्री ग्रामीण गली नाली पक्की करणी निश्चय योजना तथा ग्राम पंचायत में पंचायत सरकार भवन का क्रियान्वयन किया जा रहा है ,जिस के संबंध में जिला पंचायत कार्यालय में प्रतिवेदन सौंप दिया गया है। मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना जिले के 315 पंचायतों में चलाया जा रहा है जिसके अंतर्गत 4194 वार्ड में योजना चलाई जा रही है तथा 3145 वार्ड में कार्य प्रारंभ कर दिया गया है, इसी प्रकार मुख्यमंत्री ग्रामीण निश्चय योजना के तहत जिले के 315 पंचायतों के 4194 वार्ड में यह योजना लागू की गई है ,जहां पर 3845 वार्ड में यह कार्य प्रारंभ किया जा चुका है ।पंचायत सरकार भवन से संबंधित मामले में पूर्व में कुल पंचायत सरकार भवन की संख्या 30 है जब कि वर्तमान में पंचायत सरकार भवन और निर्माण कराने का आदेश निर्गत किया गया है।

पटना हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, नियोजित पंचायत शिक्षकों को मिलेगा EPF का लाभ

बेतिया(प.च.) :: बिहार में नियोजित पंचायत शिक्षकों के लिए गुड न्‍यूज। अब नियोजित पंचायत शिक्ष्‍कों को भी इपीएफ का लाभ मिलेगा। पटना हाईकोर्ट ने शुक्रवार को इसका आदेश दिया। यह आदेश एक लोकहित याचिका पर सुनवाई के बाद दिया गया है।   पटना हाईकोर्ट ने एक बार फिर राज्य सरकार को आदेश निर्गत कर कहा कि नियोजन पर नियुक्त पंचायत शिक्षकों को इपीएफ का लाभ देना ही पड़ेगा। यह आदेश न्यायाधीश आशुतोष कुमार ने लखन लाल निषाद एवं अन्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया। कोर्ट ने कहा कि सिविल सर्जन और शिक्षा सचिव ने पहले ही निर्णय लिया था कि इन शिक्षकों को इपीएफ का लाभ दिया जायेगा, लेकिन सरकार का यह निर्णय अभी तक क्रियान्वित नहीं हो पाया है।सुनवाई में कोर्ट को यह भी जानकारी दी गई कि एक लोकहित याचिका की सुनवाई के दौरान स्पष्ट रूप से कहा गया था कि नियोजन पर नियुक्त शिक्षकों को इपीएफ का लाभ देना चाहिए। अधिवक्ता प्रशांत सिन्हा ने केंद्रीय भविष्य निधि के अपर आयुक्त की 17.01.20 की एक चिट्ठी का जिक्र करते हुए माध्यमिक शिक्षक के निदेशक से कहा कि ये शिक्षक भी इस लाभ के हक़दार हैं। इसके अलावा कई प्रकार के दिशा-निर्देश केंद्र सरकार द्वारा दिये गये थे, जिसे मुख्य सचिव और शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ने भी स्वीकार किया था कि इन शिक्षकों को इपीएफ का लाभ मिलेगा, लेकिन अभी तक ये लाभान्वित नहीं हुए हैं।

About the author

Aditya Prakash Srivastva