पश्चिमी चम्पारण बगहा बिहार राज्य

बगहा : बगहा-2 प्रखंड की महत्वपूर्ण खबरें

News
  •  
  •  
  •  
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

राजेश पाण्डेय, कुशीनगर केसरी बगहा, प.च.(बिहार) की रिपोर्ट….

 बगहा-2 अंचल कार्यालय रहता है बंद ही बंद

बगहा : बगहा-2 के अंचल कार्यालय अधिकतर बंद ही देखा जाता है ! नवागत अंचल अधिकारी राकेश कुमार के द्वारा जब से अंचल का प्रभार लिया गया है तब से अंचल कार्यालय बंद ही देखा गया है और कार्यालय कर्मचारी से जानकारी प्राप्त करने पर जवाब के साथ उत्तर मिलता है कि मालुम नहीं है !

अंचल कार्यालय में अपने कार्य को लेकर दूरदराज से आये ग्रामीणों का कहना है कि हमलोग अपने कार्य करवाने हेतु रोजाना आते-जाते हैं और साहब को कार्यालय में नहीं दिखाई देने पर निराश होकर वापस चले जाते है ! कार्य से संबंधित ग्रामीणों का कहना है कि साहब का आगमन कभी दो बजे तो कभी चार बजे होता है। ऐसे में अंचल कार्यालय का कोई भी कार्य समय से नहीं निपटाये जाने से ग्रामीणों को हर रोज समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है !

शौचालय निर्माण वाकिंग-टॉकिंग का फार्म कार्यालय से गायब

बाल्मिकीनगर : ग्राम पंचायत राज बाल्मिकीनगर के वार्ड सख्या 05 के लाभुक रिया कुमारी पाण्डेय के द्वारा दिया गया शौचालय निर्माण का फार्म प्रखण्ड कार्यालय से गायब हो जाने का मामला उजागर हुआ है !
बिहार में चल रहे “लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान” के तहत प्रदेश को शौच से मुक्त बनाने के लिए शौचालय का निर्माण करानेे के लिए लाभुक ने अपने हाथों से कम्प्यूटर कक्ष के कर्मचारी अभिषेक को दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार आज जियो-टॉकिंग के लिए आये हुए फार्म कम्प्यूटर कार्यालय से गायब हो गया है। कर्मचारी अभिषेक कुमार ने बताया कि आपका फार्म ग़ुम हो गया है ! बगहा प्रखण्ड कार्यालय के पदाधिकारी बीडीओ के साथ ही साथ अन्य कर्मचारी का कोई भी कार्य बे पटरी पर आने के साथ ही लापरवाही हो जाने के साथ ही पंचायत के ग्रामीणों को सिर्फ बेकूफ बनाने पर लगे है !

 डी एम साहब ! एक नज़र इधर भी देखे अवैध खनन पर

बाल्मिकीनगर : अवैध खनन का कारोबार चौतरफा चल रहा है ! खनन माफियाओं में ना तो संबंधित विभाग अधिकारीयों का भय है ना ही खौफ है। बस एक ही नारा है कि “वीर तुम बढ़े चलो और कदम से कदम बढ़ाये चलो” हमलोग तो खनन का कारोबार कभी भी बंद नहीं करेंगे और परिणाम जो भी हो। प्रशासन को चुनौती देते हुए वह खुलेआम धड़ल्ले से अवैध खनन कर बालू एवम मिट्टी को बेचकर अपनी जेबें भरने में लगे हुए है ! सूूूत्रों की माने तो प्रशासन के द्वारा सूचना सभी को है कि वन विभाग की जमीन से अवैध रूप से चोरी-छुपके बालू और गिट्टी अवैध रूप से खनन कहा हो रहा है !

खनन माफिया निडर होकर दिन या रात्रि समय में ट्रेक्टर में गिट्टी लाद कर निकल जाते है, और ये सिलसिला लगातार हो रहा है, ना कोई रोकने वाला ना कोई पूछने वाला है। खनन करने वालों को शायद भय नहीं है कि जंगल के रास्ते में कही भी प्रशासन या वन विभाग के कर्मचारी मिलने के साथ ही हर क्षेत्रों में चेक नाका बना हुआ है ! परन्तु चेक नाका पर कोई कर्मचारी तैनात नहीं रहते है ! वन विभाग के द्वारा सिर्फ बोर्ड पर ही लिखावट है कि आप मुस्कराये की आप ब्याघ्र परियोजन में है ! वन विभाग के के कर्मचारी अपने कार्य करे या ना करे लेकिन वेतन हर महीने समय पर ही भुगतान चाहिये ! एक तरफ सरकार खनन पर रोक लगा रही तो दूसरे तरफ  खनन कारोबारी अवैध रुप से खनन कर अपनी बल्ले-बल्ले कर रहे है !

About the author

Aditya Prakash Srivastva