पश्चिमी चम्पारण बिहार राज्य वाल्मीकीनगर सरोकार

वाल्मिकीनगर(प.चं.) :: जेठ पूर्णिमा, संत कबीर जयंती एवं विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर किया गया 74वां महाआरती

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज24, वाल्मिकीनगर/बगहा(प.चं.) बिहार(06 जून)। भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित संगम तट बेलवा घाट परिसर में 74 वीं नारायणी गंडकी महाआरती की गई। जेठ पूर्णिमा, संत कबीर जयंती एवं विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर स्वरांजलि सेवा संस्थान द्वारा आयोजित यह महा आरती सामाजिक दूरी के साथ सांकेतिक रूप से की गई। कार्यक्रम के पूर्व स्वरांजलि रिकॉर्डिंग स्टूडियो परिसर में मैनाटांड़ प्रखंड के अंचलाधिकारी अनिल भूषण एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी राज किशोर प्रसाद शर्मा को वैश्विक महामारी के इस दौर में बेहतर कार्य करने हेतु नारायणी गंडकी सम्मान से सम्मानित किया गया। इन्हें प्रशस्ति पत्र, अंगवस्त्रम के साथ-साथ पश्चिम चंपारण के उप विकास आयुक्त रविंद्र नाथ प्रसाद सिंह द्वारा लिखित मोटिवेशनल पुस्तक व्यक्तित्व निर्माण भेंट किया गया। एकल महाआरती करते हुए संस्था के मैनेजिंग डायरेक्टर संगीत आनंद ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर हम सभी वृक्षारोपण और प्राकृतिक धरोहरों की रक्षा का संकल्प लेते हैं ।इस महा आरती के मुख्य उद्देश्यों में पर्यावरण संरक्षण संवर्धन के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करना भी शामिल है। चर्चित अभिनेता डी. आनंद ने कहा कि अब तक संस्था के प्रयासों से पर्यावरण प्रेमियों द्वारा भारत नेपाल में हजारों वृक्षारोपण के कार्य कराए गए हैं। शिवाला घाट त्रिवेणी धाम नेपाल में कोटि होम आश्रम नेपाल के पीठाधीश संत गुरु वशिष्ट जी महाराज के नेतृत्व में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ महाआरती की परंपरा का निर्वाह किया गया। महाआरती कमेटी नेपाल के अध्यक्ष सत्यदेव पांडे, कोषाध्यक्ष मोतीलाल ढकाल, सचिव भैरव प्रसाद शर्मा, रंता काफले, सफला नेपाल, गायक निर्मल अमात्य, ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। भारत नेपाल के दोनों घाटों पर संत कबीर एवं विश्व विश्व पर्यावरण दिवस के महत्व पर चर्चा की गई। समाजसेवी विनोद मद्धेशिया एवं गौ पालक राजेश यादव ने संयुक्त रूप से महाप्रसाद का इंतजाम किया। स्वरांजलि सेवा संस्थान की राष्ट्रीय अध्यक्ष अंजू देवी, एडिटर स्वरांजलि सरगम एवं नायिका कुमारी संगीता ने अपनी विशिष्ट भूमिका निभाई। अपने अपने घरों में रहकर नियमित मासिक महाआरती की परंपरा का निर्वाह करने वाले भक्तों में महाराजगंज उत्तर प्रदेश भाजयुमो के पूर्व जिला अध्यक्ष दुर्गा प्रसाद गुप्त, पूर्वांचल के लोकप्रिय भजन गायक अमित अंजन, थारू कला संस्कृति एवं प्रशिक्षण संस्थान के सचिव होम लाल प्रसाद, थरुहट के गायक कार्तिक कुमार काजी,, शिक्षाविद आशुतोष मिश्र, हनुमान सेवा समिति के संस्थापक राधेश्याम पांडे, अजय भक्त, पंकज कुमार, नवरत्न प्रसाद, गायक शिव चंद्र शर्मा, गायिका आशा साहू, अखिलेश साह, गायक प्रभात रंजन, लेखक दिनेश मुखिया , आशुतोष रौनियार निर्माता रंजन सिन्हा एवं वर्ल्ड मीडिया विजन के राजेश गुप्ता के नाम उल्लेखनीय हैं। अंतरराष्ट्रीय संत स्वामी कमलनयन आचार्य जी महाराज,अश्वमेध पीठाधीश्वर श्री उपेंद्र पाराशर जी महाराज, मां सप्तचंडी ट्रस्ट के संस्थापक बालक दास बाबा जी महाराज, मुक्तिनाथ धाम नेपाल के पीठाधीश्वर स्वामी लोक आनंद जी महाराज ,गजेंद्र मोक्ष दिव्य धाम के संत करपात्री श्री कृष्णा प्रपन्नाचार्य जी महाराज, एवं नागा कुटी नेपाल के उत्तराधिकारी केशव दास जी महाराज ने संयुक्त रूप से आयोजन समिति को निर्देश दिया है कि जब तक भारत नेपाल का माहौल सामान्य नहीं हो जाता है तब तक यह महाआरती भव्यता के साथ नहीं की जा सकती। सभी कार्यक्रमों में सरकारी निर्देशों का भली-भांति पालन किया जाना चाहिए।। राष्ट्र धर्म सर्वोपरि है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva