पश्चिमी चम्पारण बिहार राजनीति राज्य वाल्मीकीनगर

बगहा : सूबे के मुखिया श्री नीतीश कुमार द्वारा अपने “गौरव यात्रा” का किया गया शुरुआत

News
  •  
  •  
  •  
  • 6
  •  
  •  
  •  
  •  
    6
    Shares

● आजादी के 71 साल बाद ग्रामीण क्षेत्र में पहुंंची बिजिली, रियल्टी को देखने घर मे घुस गए बिहार के सीएम।

(०५ दिसम्बर)

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी बगहा, प.च. बिहार। बगहा अनुमंडल क्षेत्र के चंपापूर दोन के सुदूर वन क्षेत्र से बगहा वाल्मीकिनगर रामनगर के बीहड़ और दियारा क्षेत्रों का पिछड़ापन बिहार के मुखिया श्री नीतीश कुमार की निगाहों में खटक रहा था इसलिए उन्होंने ” गौरव यात्रा ” की शुरुआत बुद्धवार को बाल्मीकिनगर क्षेत्र चंपापूर एंव रगिया गांव में स्थापित मिनी सोलर पावर ग्रिड एवं सोलर पावर से संचालित हर घर बिजली योजना का स्वयं निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगो को संबोधित किया। सीएम के आगमन पर स्वागत करने पहुँचे वाल्मीकिनगर सांसद सतीश चंद्र दुबे, विधायक धीरेन्द्र प्रताप सिंह के साथ अन्य कार्यकर्ता में उमेश कुमार, राणा सिंह, देवेन्द्र सिंह, मनोज कुमार, बबलू जी और सांसद के साथ आये कार्यकर्त्ता में जिला से राम सिंह, सोमेश पांडेय, ओम निधि वत्स के साथ ही जसवंत यादव भी मौजूद रहें । शासन-प्रशासन के अधिकारी जिला पदाधिकारी के साथ बेतिया एस पी, एसडीएम, पुलिस आयुक्त के साथ ही बगहा पुलिस जिला के एस पी, एस डी एम, अंचल अधिकारी राकेश कुमार के साथ ही स्वास्थ विभाग के डॉ. राजेश कुमार, डॉ. गोबिन्द शुक्ला, आयुष डॉ0 संजय सिंह भी उपस्थित रहे ।
बता दें कि आज आजादी के 70 साल बाद पहली बार गांव में पहुंची है बिजली, रियल्टी को चेक करने झोपड़ी में घुस गए बिहार के सीएम नीतिश कुमार। उन्होंने कहा कि मैं बिहार के तमाम जिलों में जाकर जो प्रमुख जगह है उसको देख रहा हूं। सीएम ने कहा कि बिजली बिहार के तमाम घरों तक पहुंचाई जाएगी और सौर ऊर्जा से भी ज्यादा से ज्यादा लोगों को बिजली मिले यह भी प्रयास कर रहे हैं।

बेतिया में रामनगर प्रखंड के चंदापुर गांव में सीएम नीतीश कुमार ने सौर ऊर्जा प्लांट का निरीक्षण किया

चंदापुर गांव में सौर ऊर्जा से बिजली पहुंचाई गई है। इस दौरान सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हर घर बिजली की तरह हर घर सोलर लाइट पहुंचाने का भी काम होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि अगले साल तक बिजली फीडर का भी काम पूरा हो जाएगा। मैं इसबार यात्रा पर नहीं, निरीक्षण के लिए निकला हूं।

About the author

Aditya Prakash Srivastva