उत्तर प्रदेश कुशीनगर राज्य सरोकार

कुशीनगर :: गोरखपुर के सांसद रवि किशन के समर्थन में उतरे गायक आकाश मिश्रा

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मुंबई ड्रग्स बहस में रवि किशन के समर्थन में कई भोजपुरी जगत के गायक व कलाकार आ रहे खुलकर सामने

उपेेंद्र कुुशवाहा, पडरौना, कुशीनगर(१९ सितंंबर)। बॉलीवुड में ड्रग्स माफिया को लेकर भोजपुरी कलाकार व गोरखपुर के भाजपा सांसद रवि किशन व सपा सांसद जया बच्चन आमने सामने आ गए थे। जया ने तो ये तक कह दिया कि जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं। उधर इस बहस में बॉलीवुड भी दो धड़े बंट गए हैं.इसी कड़ी में गायिका अक्षरा सिंह, गायक व अभिनेता पवन सिंह के साथ महुआ टीवी चैनल प्रोग्राम के विजेता रहे गायक आकाश मिश्रा भी रवि किशन के समर्थन में आ गए हैं।

बता दें कि महुआ चैनल प्रोग्राम में मनोज तिवारी के साथ “पिया पिया रटते” गाने के ख्याति की बुलंदी पाने वाले मशहूर गायक आकाश मिश्रा बक्सर बिहार के कंजिया गांव के रहने वाले हैं। आकाश मिश्रा भोजपुरी व हिंदी गाने केजाने-माने गायक हैं.उन्होंने बहुत कम उम्र में ही भोजपुरी स्टार पवन सिंह, कल्पना, रितेश उर्फ़ चिंटू पांडेय,दिनेश लाल यादव उर्फ निरहू,गायिका व एक्टर अक्षरा सिंह जैसे कई कलाकारों के साथ अपना अनुभव कर चुके हैं। रवि किशन बनाम जया बच्चन मामले में सिंगर आकाश मिश्रा ने बिना नाम लिए ही जया के बयानों को ध्वस्त कर दिया। उन्होंने तीखे लहजे में बॉलीवुड इंडस्ट्री को लेकर कहा कि “फ़िल्म जगत अगर थाली है,तो ये थाली सबकी है। ये सबकी भूख मिटाती है और सब अपनी मेहनत से इस थाली में रखने के लिए रोटियाँ कमाते हैं। कोई किसी के टुकड़ों पर नहीं पलता।” उन्होंने आगे कहा बॉलीवुड में वंशवाद को पलटवार करते हुए कहा कि “इस थाली पर आइएसआई की जगह संविधान की मुहर है। ये थाली किसी एक परिवार, ख़ानदान या वंश की बपौती नहीं है। अंत में कहा कि अगर इस थाली में किसी बदजात ने जहर परोस दिया है तो इसमें छेद करना जरूरी है ताकि वो जहर बह के निकल जाए।ड्रग्स मसले पर रवि किशन को जवाब देते हुए सपा सांसद जया बच्चन ने कहा था कि “जिन लोगों ने फिल्म इंडस्ट्री में अपना नाम बनाया है.उन्होंने इसे गटर बुलाया,मैं पूरी तरह इससे असहमत हूं। मैं उम्मीद करती हूं कि सरकार इन लोगों को बताए जिन्होंने इससे अपना नाम और प्रसिद्धि कमाई कि ऐसी भाषा का इस्तेमाल करना बंद करें।” आगे उन्होंने कहा था कि “मैं बहुत शर्मिंदा थी कि हमारे एक सांसद ने लोकसभा में फिल्म इंडस्ट्री के खिलाफ बोला,जो खुद इंडस्ट्री से हैं। ये शर्म की बात है, ‘जिस थाली में खाते हैं उसमें छेद करते हैं।’ गलत बात है, इंडस्ट्री को सरकार का समर्थन चाहिए।”

About the author

Aditya Prakash Srivastva