पश्चिमी चम्पारण बिहार बेतिया राज्य

बेतिया(प.चं.) :: जिले की लाइफलाइन हैं सड़कें, अविलंब क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मति करायें अभियंता : जिलाधिकारी

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज24, बिहार। अभियंताओं को प्रत्येक सड़क का स्थलीय निरीक्षण कर प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश देते हुए समाहरणालय स्थित कमांड एण्ड कंट्रोल में “निदान“ के माध्यम से ग्रामीण एवं शहरी सड़कें, चापाकल, बिजली की समस्याओं का त्वरित निराकरण होगा। वहीं बताया कि काॅमन लैंडलाइन नंबर-06254-242199 एवं व्हाट्सएप नंबर-6204083522 पर शिकायत एवं सुझाव दर्ज की जा सकेंगी।

जिलाधिकारी, कुंदन कुमार ने कहा कि किसी भी गांव, शहर, जिले के विकास में अच्छी एवं गुणवतापूर्ण सड़कों की अहम भूमिका होती है। जिले की लाईफलाइन होती है सड़कें, अविलंब क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मति कराकर आवागमन सुचारू कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि आम जनता को अधिक से अधिक विभिन्न योजनाओं तथा सुविधाओं का लाभ मिले इसके लिए सरकार तथा जिला प्रशासन माइक्रो प्लानिंग के तहत जमीनी स्तर पर जाकर अपना कार्य कर रहा है। इसके बावजूद जिले में कुछ सड़कों की स्थिति संतोषजनक नहीं है। आमजन से भी सड़कों के क्षतिग्रस्त होने से संबंधित शिकायतें लगातार मिल रही है। आगामी विधानसभा निर्वाचन के अवसर पर भी पोलिंग पार्टियों तथा अन्य चुनाव अधिकारियों एवं कर्मियों को लेकर बड़े-छोटे वाहनों का आवागमन होगा। सभी संबंधित कार्यपालक अभियंताओं को आगाह किया जाता है कि अपने-अपने क्षेत्रातर्गत आने वाली प्रत्येक सड़क का वे स्वयं स्थलीय निरीक्षण करेंगे तथा क्षतिग्रस्त सड़कों की अविलंब मरम्मति करायें ताकि आमजन आवागमन में परेशनियों का सामना नहीं करना पड़े। निरीक्षण के उपरांत संबंधित प्रतिवेदन जिसमें कुल कितनी सड़क है, सडकों की लम्बाई, मरम्मति किये जाने वाले सड़कों की संख्या आदि से संबंधित अद्यतन प्रतिवेदन उपलब्ध करायी जाय। जिलाधिकारी समाहरणालय सभाकक्ष में आरसीडी, आरडब्लूडी, पीएचईडी आदि से संबंधित कार्यपालक अभियंताओं को निदेशित कर रहे थे।
जिलाधिकारी ने कहा कि सड़कों का निर्माण एवं मरम्मति कार्य अच्छी तरीके से पूर्ण गुणवता के साथ होना चाहिए। नये सड़कों के निर्माण में कैट्स आई, डेलीनेटर, मार्किंग आदि सुव्यवस्थित तरीके से अधिष्ठापित होनी चाहिए ताकि रात्रि के समय में भी सुगमतापूर्वक आवागमन हो सके। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों मंे आवश्कतानुसार बाइपास सड़क के निर्माण हेतु भी सर्वें कर प्रस्ताव समर्पित करें ताकि आमजन को यातायात में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े।
उन्होंने कहा कि बेतिया शहर में भ्रमण के दौरान कई स्थलों पर बीच सड़क पर पोल गड़े हुए मिले हैं, इसे अत्यंत किनारे शिफ्ट करना आवश्यक है। बीच सड़क में पोल स्थित रहने से दुर्घटना की संभावना प्रबल है, इसलिए इसे अविलंब किनारे शिफ्ट किया जाय। कार्यपालक अभियंता, पथ निर्माण विभाग को निदेश दिया गया कि निर्माणाधीन सड़कों को ससमय पूर्ण कर लिया जाय। सड़कों के निर्माण में प्राक्कलन तथा गुणवता का पूरा ध्यान रखा जाय। उन्होंने कहा कि सड़कों के किनारे बनने वाली नालियों को भी अच्छी तरह से बनाया जाय ताकि जलनिकासी की समस्या नहीं रहे। कार्यपालक अभियंता, पथ निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि हरिवाटिका चैक से लेकर तीन लालटेन चैक तक का सड़क निर्माण पूर्ण हो चुका है। बानूछापर से लेकर छावनी चैक तथा अन्य सड़कों का निर्माण शीघ्र पूर्ण हो जायेगा, कार्य प्रगति पर है।
समीक्षा के क्रम में कार्यपालक अभियंता, ग्रामीण कार्य विभाग, नरकटियागंज द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा 49 सड़कों का स्थलीय निरीक्षण कर लिया गया है जिसमें से क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मति का कार्य शीघ्र शुरू कर दिया जायेगा। वहीं कार्यपालक अभियंता, बगहा-01 द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा 90 सड़कों का स्थलीय निरीक्षण कर अग्रतर कार्रवाई की जा रही है। कार्यपालक अभियंता, बगहा-02 द्वारा बताया गया कि 60 सड़कों का स्थलीय निरीक्षण पूर्ण हो गया है जिसमें से क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मति कार्य जारी है।
जिलाधिकारी ने कहा कि शहरी सड़कें, ग्रामीण सड़कें, पीएचईडी अंतर्गत चापाकल से जुड़ी हुई विभिन्न समस्याएं एवं बिजली विभाग से जुड़ी हुई विभिन्न समस्याओं का त्वरित निराकरण करने हेतु जिलास्तर पर कमांड एण्ड कंट्रोल रूम में “निदान“ संचालित है। उक्त कार्यकारी विभाग अपने-अपने कर्मी को निदान में प्रतिनियुक्त करेंगे। निदान कंट्रोल रूम का एक अलग दो हंटिंग लाइनों सहित लैंडलाईन नंबर तथा एक काॅमन व्हाट्सएप नंबर है। काॅमन लैंडलाइन नंबर-06254-242199 एवं व्हाट्सएप नंबर-6204083522 पर जिलेवासी दर्ज उक्त समस्याओं से संबंधित शिकायत एवं सुझाव दर्ज करा सकेंगे। कमांड एण्ड कंट्रोल रूम में विभागवार लाॅगबुक का संधारण किया जाना अत्यंत ही जरूरी है। प्रत्येक काॅल्स की विस्तृत जानकारी लाॅगबुक में अंकित रहनी चाहिए। प्राप्त शिकायतों का निपटारा अविलंब कराना सुनिश्चित किया जाय। वरीय पदाधिकारी इसका साप्ताहिक अनुश्रवण एवं निरीक्षण करेंगे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva