उत्तर प्रदेश कुशीनगर राज्य

कुशीनगर :: कोविड-19 व बूढ़ी गण्डक में बढ़ रहे जल स्तर को लेकर डीएम ने किया आवश्यक बैठक

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आदित्य प्रकाश श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/केके न्यूज24, कुशीनगर(२४ सितंबर)। जिलाधिकारी भूपेंद्र एस चौधरी की अध्यक्षता में एकीकृत कोविड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेन्टर , व कोविड-19 के संबंध में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ कलेक्ट्रेट स्थित कार्यालय कक्ष में बैठक आयोजित की गयी।
बैठक के दौरान उपस्थित अधिकारियों से वार्ता करते हुए जिलाधिकारी ने कोविड-19 के संबंध में निर्देश देते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में ज्यादा पाॅजीटिव केस निकल रहे हैं वहां पर हॉटस्पॉट घोषित करते हुए सर्विलांस टीम द्वारा सर्वेक्षण का कार्य कराया जाए तथा सम्पर्कों का तत्काल सैम्पल कराया जाना सुनिश्चित करें। यदि किसी क्षेत्र में पाॅजीटिव केस निकल रहे हैं तो इस बिन्दु पर विश्लेषण किया जाए कि क्या वहां पर निकलने वाले ज्यादातर केस फर्स्ट कान्टेक्ट, सेकेण्ड कॉन्टेक्ट या ट्रेवल हिस्ट्री वाले हैं। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि मरीज के पाॅजीटिव पाए जाने पर पहले उससे जानकारी कर ली जाए, यदि मरीज देखने में स्वस्थ है, लक्षणहीन है तथा होम आइसोलेट होना चाहता है तो उस होम आइसोलेट किए जाने की प्राथमिकता दी जाए। साथ ही उन्होंने सम्बन्धित को निर्देशित किया कि कोविड केयर सेण्टर तथा कोविड चिकित्सालयों में मरीजों द्वारा सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराया जाना सुनिश्चित करे। जिलाधिकारी ने निर्धारित लक्ष्य से कम सैम्पल न लिए जाने का भी निर्देश दिए। उन्होने निर्देश दिये कि किसी भी कोविड चिकित्सालय में खाना-पानी, सफाई के संबंध में किसी प्रकारी की कोई शिकायत प्राप्त नहीं होनी चाहिए अन्यथा कि स्थिति में संबंधित की जिम्मेदारी तय की जाएगी।
जिलाधिकारी श्री चौधरी ने जनपद में हो रही मूसलाधार बारिश व बाल्मीकि नगर बैराज से लगातार बढ़ते जल स्तर को लेकर उप जिलाधिकारी खडडा व तमकुहीराज को स्थिति पर पैनी नजर बनाए रखने व बाढ़ चौकियों को क्रियाशिल रखने हेतु निर्देशित किया साथ ही उन्होंने लगातार भ्रमण कर स्थिति की जानकारी से अवगत कराने का भी निर्देश दिये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अन्नपूर्णा गर्ग, अपर जिलाधिकारी विंध्यवासिनी राय,मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 नरेंद्र गुप्ता, सहित समस्त उप जिलाधिकारी व अन्य सम्बन्धित अधिकारी गण उपस्थित रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva