उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति राज्य

कुशीनगर :: पांच सूत्रीय मांग को लेकर एमएलसी से मिला एनएचएम संगठन

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

डाक्टर धननंजय मिश्र, कुशीनगर केसरी, कुशीनगर(14 फरवरी)। उ0प्र0 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत लगभग 80 हजार संविदा, आउट सोर्सिंग व आयुष्मान मित्र के कर्मचारियों एवं 2 लाख आशा बहुओं की समस्याओं को लेकर आज राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कुशीनगर के जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र पांडेय की अगुआई में संगठन के कर्मचारी एवं पदाधिकारीयों नें देवरिया- कुशीनगर के एमएलसी रामअवध यादव से मिलकर अपनी समस्याओं से अवगत कराया और कहा कि विगत 15 वर्षों से अधिक समय हो गया इनको अपनी सेवा देते हुए कोविड -19 जैसी महामारी में ये संविदा कर्मी अपनी और अपने परिवार की चिंता किये वगैर जनता को तत्पर सेवा देते रहे रात-दिन नही देखे। लेकिन वही सुविधा के नाम पर इन संविदा कर्मी को कुछ नही मिलता है यहां तक कि आवास भी नही दिया जाता है और न ही सम्मानजनक वेतन ही मिलता है न समय से वेतन ही मिलता है।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत ए0एन0एम0 संविदा कर्मी जो सैकड़ो किलोमीटर अपने परिवार से दूर रह कर कम से कम मानदेय पर कार्य कर रही हैं। इन संविदा कर्मियों को आये दिन मानसिक व सामाजिक शोषण किया जाता है जो अत्यंत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। वही आयुष्मान कार्ड बनाने में कुशीनगर का पूरे प्रदेश में पहला स्थान रहा इसके बावजदू 18 महीनों से अपने वेतन के लिए लगातार मुख्य चिकित्साधिकारी से मांग करते रहे लेकिन मानदेय नही मिला। आज इनका परिवार भुखमरी के कगार पर आ गया है। वहीं राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संविदा कर्मी एमएलसी रामअवध यादव से मिलकर समान कार्य समान वेतन की मांग की एवं सारी समस्याओं का निराकरण कराने की मांग की। गैर जनपद में रह रहे स्वास्थ्य कर्मी अपने जनपद में स्थानान्तरण कराना चाहते हैं कि अपने परिवार के बीच रह कर जनता की सेवा करते रहे। इस दौरान एमएलसी रामअवध यादव ने आश्वासन दिया कि मैं आप लोगों की समस्याओं को विधान सभा मे उठाऊंगा और आप लोगों की समस्या का निराकरण जल्द से जल्द कराऊंगा। इस अवसर पर प्रमुख रूप से एनएचएम संघ कुशीनगर के जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र पांडेय, संगठन मंत्री राजू यादव, डॉ धनंजय मिश्र, डॉ शिप्रा मिश्र, पूनम देवी, विक्टोरिया, खुशनद अल्वी, मिथलेश देवी, ममता सैनी, ज्योति मौर्या, ज्योति रानी, पुनम, रीना, दीप्ति, शालू, विवेक यादव, अर्जुन कुमार आदि लोग मौजूद रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva