उत्तर प्रदेश कुशीनगर राज्य

कुशीनगरःकिसान सम्मान निधि योजना से लाभान्वित करने में किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं , डीएम

News
  •  
  •  
  •  
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares

 

डेस्क के .के . न्यूज24 कुशीनगर

कुशीनगर। जिलाधिकारी डॉ0 अनिल कुमार सिंह ने बताया कि लघु एवं सीमान्त किसानों की आय बढ़ाने हेतु ‘‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पी0एम0-किसान) के क्रियान्वयन के सम्बन्ध में सम्बन्धित अधिकारियों को प्रभावी कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित कर दिया गया है जिसमें शासन द्वारा प्राप्त दिशा निर्देश के अनुरूप इस योजना के अन्तर्गत लघु एवं सीमान्त कृषकों के परिवारों को प्रतिवर्ष 06 हजार रू0 डायरेक्ट ट्रांसफर (डीबीटी) के माध्यम से प्रदान किया जायेगा। यह धनराशि 4-4 महीने के अन्तराल में 02 हजार रू0 की तीन किश्तों में प्रदान की जायेगी। यह योजना 01 दिसम्बर, 2018 से लागू किया गया है एवं 01 दिसम्बर, 2018 से 31, मार्च, 2019 की समयवधि के लिए प्रथम किस्त कृषक परिवारों के बैंक खाते में स्थानान्तरित किया जाना है।
जिलाधिकारी ने इस योजना के सफल क्रियान्वयन हेतु क्षेत्रीय लेखपाल को निर्देशित किया कि गांवों में जाकर सर्वे कर लघु एवं सीमान्त किसानों की सूची यथाशीघ्र तैयार करें। उन्होंने बताया कि इस योजना के लिए लघु एवं सीमान्त कृषक परिवारों के नाम पते, बैंक खाता न0, आधार न0 (जिन कृषकों के पास आधार न0 उपलब्ध न हो तो उनका आधार एनरोलमेन्ट न0) मोबाइल न0, इत्यादि की आवश्यकता होगी। यदि आधार कार्ड नहीं है तो भारत निर्वाचन आयोग पहचान पत्र, पैन कार्ड आवश्यक है। उन्होंने क्षेत्रीय लेखपाल/ग्राम विकास/ग्राम पंचायत अधिकारियों को निर्देशित किया है कि जिन कृषकों का बैंक खाता न हो तो उनका खाता तत्काल खोला जाय और पात्र कृषकों का किसान पोर्टल पर पंजीकरण भी कराया जाय।
उन्होंने बताया कि इस योजना के नोडल अधिकारी मुख्य विकास अधिकारी को नामित किया गया है तथा कृषि विभाग नोडल विभाग है। जिलाधिकारी ने बताया कि इस योजना से अपात्र लोग जैसे भूतपूर्व अथवा वर्तमान संवैधानिक पदधारक, भूतपूर्व अथवा वर्तमान मंत्री/राज्यमंत्री एवं भूतपूर्व/वर्तमान सदस्य लोक सभा/राज्य सभा/राज्य विधान सभा/राज्य विधान परिषद, भूतपूर्व अथवा वर्तमान नगर महापालिका के मेयर, भूतपूर्व अथवा वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष, केन्द्र व राज्य सरकार के कार्यालय/विभागों के समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी, केन्द्र और राज्य सरकार सहायतित अर्द्ध सरकारी संस्थान तथा सरकार समबद्ध समस्त कार्यालय एवं स्वायत्तशाषी संस्थान तथा स्थानीय निकायों के नियमित कार्मिक( चतुर्थ श्रेणी कार्मिक छोड़कर), लाभार्थी कृषक द्वारा विगत कर निर्धारण वर्ष में आयकर का भुगतान किया गया है, समस्त सेवानिवृत्त पेंशनधारक जिनकी मासिक पेंशन रू0 10 हजार या उससे अधिक ( चतुर्थ श्रेणी के सेवानिवृत्त पेंशनर्स को छोड़कर), पेशेवर डाक्टर, इंजीनियर, अधिवक्ता, चार्टर्ड एकाउन्टेंट व आर्किटेक्ट आदि से संबन्धित के लिए पंजीकरण करने वाले संस्था में पंजीकृत है और अपना पेशा कर रहे है, लोग इस योजना से लाभान्वित नहीं होगे।
उन्होंने जनपद के समस्त लघु/सीमान्त कृषकों से अपील किया है कि अपने परिवार के किसी एक सदस्य का बैंक खाता संख्या, आधार न0 व मोबाइल न0 अपने पास सुरक्षित रखे अथवा अपने सम्बन्धित क्षेत्रीय लेखपाल को उपलब्ध कराएं। जिससे तत्काल उनके खाते में धनराशि हस्तानान्तरित करायी जा सके। उन्होंने कहा कि जो किसान पहले से अपना पंजीकरण करा चुके हैं, उन्हें पुनः पंजीकरण कराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने जनपद के पात्र किसान भाईयों से अपील की कि अपने विकास खण्ड के राजकीय बीज गोदाम, उप निदेशक कृषि प्रसार कार्यालय, जनसुविधा केंन्द्रों या अन्य किसी माध्यम से तत्काल किसान पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराएं।
जिलाधिकारी ने कहा कि मुख्य विकास अधिकारी के स्तर से 20-25 राजस्वग्राम पर एक सेक्टर प्रभारी नामित किया जाएगा ।तथा प्रत्येक दिन टीम द्वारा सत्यापित किये गए आंकड़ों को जिला स्तर पर भी उपलब्ध कराया जाय, साथ ही उन्होंने 12 फरवरी से 14 फरवरी के मध्य राजस्व ग्रामों में शिविर का आयोजन कर छूटे हुए पात्र कृषकों की सूचना एकत्र कर लिए जाएं। उन्होंने किसान पोर्टल पर अपलोड करवाने हेतु संबंधित को प्रत्येक दिन सायंकाल अपलोड करने हेतु निर्देशित किया गया है।
डॉ0 श्री सिंह ने समस्त संबंधित अधिकारी गण/ कर्मचारियों को निर्देशित किया है कि उक्त कार्य अत्यंत ही महत्वपूर्ण है जिसे अपने कुशल नेतृत्व एवं सहयोग से सम्यवध रूप से कार्यवाही सुनिश्चित करें, ताकि जनपद के शत प्रतिशत पात्र कृषकों को लाभान्वित किया जा सके।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment