उत्तर प्रदेश क्राइम राज्य सोनभद्र

सोनभद्र : शादी का झांसा देकर वर्षों से करता रहा बालात्कार, बाद में शादी से किया इनकार और बदनाम करने की देने लगा धमकी, थानाध्यक्ष पीपरी ने मामले से झाड़ा पल्ला

News
  •  
  •  
  •  
  • 6
  •  
  •  
  •  
  •  
    6
    Shares

अनूप श्रीवास्तव, kknews24/कुशीनगर केसरी रेनूकूट/सोनभद्र(१९ फरवरी)। वर्षों से जबरन बलात्कार करने का मामला प्रकाश में आया है। दिल्ली निवासी लड़की ने आरोप लगाया है कि सुमित अग्रवाल एक दिन धोखे से नंबर लेकर बातचीत करना शुरू कर दिया और धोखे से मिलने के बहाने बुलाकर जबरन बलात्कार किया। जब इसकी शिकायत करने की बात कही तो उसने शादी का झांसा देकर मुंह बंद कर दिया और जब समय बीतने के आज 4 साल तक शोषण करने के बाद उसने शादी से इनकार करके बदनाम करने की धमकी देने लगा। जब मामले की जांच करने दिल्ली पुलिस सोनभद्र आरोपी के घर पहुंची तो आरोपी फरार मिला। पुलिस बैरंग वापस लौट गई।
गौरतलब है कि थाना नबी करीम निवासिनी ने एक फरवरी 2019 को थाने में प्रार्थना पत्र देकर सुमित अग्रवाल पुत्र कृपाल चंद निवासी बिरला मार्केट रेणुकूट सोनभद्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए प्रार्थनापत्र दिया। प्रार्थिनी हाई कोर्ट दिल्ली में प्रैक्टिस भी करती है। उसने आरोप लगाया कि लगभग 4 वर्ष पूर्व सुमित अग्रवाल किसी कार्य से दिल्ली आया हुआ था और उसकी मुलाकात प्रार्थिनी के मामी कमलेश के घर में हुई उस दौरान बातचीत में सुमित ने प्रार्थिनी का नंबर ले लिया और बातचीत करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे बात करते करते कुछ दिन बीत जाने के बाद आरोपी ने प्रार्थिनी को रेलवे स्टेशन दिल्ली पर मिलने के लिए बुलाया और होटल में चल कर बैठ कर बात करने की बात कही। प्रार्थिनी सुमित के साथ होटल में गई वहां बातचीत करते करते उसने 16/5/17 को धीरे-धीरे जबरदस्ती करने लगा। जिस पर उसने चिल्लाने की कोशिश की तो सुमित ने होटल के कमरे में प्रार्थिनी को मुंह दबाकर जबरन बलात्कार किया। जब प्रार्थिनी इसकी शिकायत अपनी मामी से करने की बात कही तो आरोपी ने शादी का झांसा देकर उसका मुंह बंद कर दिया। धीरे-धीरे समय बीतता गया लगभग 4 साल समय बीतने के बाद प्रार्थिनी सुमित अग्रवाल को शादी के लिए दबाव देना शुरू कर दिया, तब जाकर सुमित ने अपना रंग दिखाया और प्रार्थिनी को शादी से इनकार कर दिया और धमकी देने लगा कि अब ज्यादा तुम बोलोगी तो तुम को बर्बाद कर दूंगा। प्रार्थिनी ने अंत में जाकर थाना नबी करीम दिल्ली को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई। पुलिस ने धारा 376/506 आईपीसी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही में जुट गई।

सूत्रों की मानें तो दिल्ली पुलिस मुकदमे के परताल में सोनभद्र पहुंची और पिपरी थाने में जाकर कर बातचीत किया और स्थानीय थाने के सिपाहियों के साथ आरोपी के घर पहुंची तो आरोपी घर से फरार मिला उसके बाद दिल्ली पुलिस बैरंग वापस लौट गई। इस बाबत जब थानाध्यक्ष पीपली से जानकारी लिया गया तो उन्होंने गोल मटोल जवाब देकर पल्ला झाड़ लिया। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पीपरी थाने की पुलिस उक्त अरोपी को बचाने में लगी है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva