उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति

कुशीनगरःलक्ष्मीगंज बन्द चीनी मिल को चलवाने को लेकर पांचवे दिन धरना जारी

News
  •  
  •  
  •  
  • 15
  •  
  •  
  •  
  •  
    15
    Shares

डेस्क. कुशीनगर
कुशीनगर।भारतीय किसान यूनियन (भानु) की जिला इकाई, कुशीनगर के जिलाध्यक्ष रामचन्द्र सिंह के नेतृत्व में लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिए धरना प्रदर्शन का आज पांचवां दिन है| आज के धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता मैना देवी द्वारा किया गया और संचालन हरि जी ने किया| यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने कहा की लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिये तीसरी बार धरना प्रदर्शन शुरू किया गया है उसके बाद भी केंद्र और राज्य सरकार लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिये घोषणा नही किया| इसी सब बातों को ध्यान में रखते हुए भारतीय किसान यूनियन (भानु) के गोरखपुर मण्डल अध्यक्ष द्वारा निर्णय लिया गया है कि दिनाँक 11 मार्च 2019 को गोरखपुर में एक विशाल किसान महापंचायत का आयोजन होगा जिसमे प्रमुख मांग है जनपद कुशीनगर के लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को सरकार चलवाए और जनपद गोरखपुर के सरदार नगर चीनी मील पर किसानों के गन्ने का भुगतान जो कई वर्षों से नही मिला है उसे सरकार जल्द से जल्द किसानों को दिलवाने का कार्य करें यदि यह दोनों माँगें सरकार अबिलम्ब नही मानती है तो किसान बन्धु सड़कों पर आने के लिये मजबूर हो जायेगें और जरूरत पडी तो फैजाबाद, बस्ती मण्डल के साथ साथ अन्य जनपदों से किसान बन्धु गोरखपुर एकत्रित होना शुरू हो जायेगें और किसानों द्वारा केंद्र और राज्य सरकार की ईट से ईट बजाने का कार्य भी किया जाएगा| आगे श्री सिंह ने किसानों को बताया की किसानों की हितैशी कहलाने वाली बीजेपी सरकार सिर्फ किसानों को मूर्ख बनाकर सत्ता में दोबारा आना चाहती है लेकिन किसान बन्धु बीजेपी सरकार का यह मंशा पूरा होने नही देंगे क्योकि किसान, मजदूर और गरीब इनके जुमलेबाजी को समझ गए है| 2014 के लोकसभा चुनाव के समय में नरेन्द्र मोदी पडरौना में आये थे और उन्होंने कहा था कि यदि केंद्र में बीजेपी सरकार बनी तो जनपद कुशीनगर की बन्द चीनी मीलों को चलवायेगें लेकिन केंद्र में मोदी सरकार बनी भी और पांच साल पूरे होने वाले है उसके बाद भी मोदी सरकार ने जनपद कुशीनगर की एक भी बन्द चीनी मील को चलवाने के लिये अबतक घोषणा नही किया और किसानों, गरीबों और मजदूरों को जनधन योजना में पन्द्रह लाख प्रत्येक खाते में भेजने का वादा भी किया था वह वादा सिर्फ वादा होकर रह गया है? सरकार किसान सम्मान योजना में प्रत्येक किसान जिनकी खेती पांच एकड़ तक है उन्हें 6000/- हजार हर वर्ष देने का वादा किया है यह सरकार का योजना सिर्फ वोट बैंक और 2019 में लोकसभा चुनाव जितने के लिये फार्मूला बनाया गया है क्योकि एक साल में 364 दिन होते है यदि 6000/- में 364 का भाग दे दिया जाय तो एक दिन का 16.48 पैसे किसानों के खाते में जाते है? हमारा यूनियन मोदी सरकार से जानना चाहता है कि इस 16.48 पैसे में किसान बन्धु सम्मान के साथ सुबह का नाश्ता कर सकते है क्या? यदि ऐसा नही है तो यह किसान सम्मान योजना मोदी सरकार की सिर्फ चुनावी जुमलेबाजी योजना है और इस चुनावी जुमलेबाजी योजना को हमारे यूनियन द्वारा बहिष्कार किया जाता है| यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने सरकार को अवगत कराया कि लक्ष्मीगंज परिक्षेत्र के किसानों का नारा है “जो लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील चलवायेगा, वोट उसी को जाएगा| “लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील चालू करो, वर्ना कुर्सी खाली करो”,| अन्त में यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने सरकार को चेताया है कि यदि केंद्र और राज्य सरकार द्वारा लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मील को चलवाने के लिये अबिलम्ब घोषणा नही किया गया तो गोरखपुर में जो किसान महापंचायत होने जा रहा है उसका आकार किसान आन्दोलन होना तय है जिसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र और राज्य सरकार की होगी| इस मौके पर बबलू खान, रामनारायन यादव, मैना देवी, चेतई प्रसाद, रामाश्रय वर्मा, भोरिक यादव, कृष्णगोपाल चौधरी, प्रभु भारती,ढोंणा प्रसाद, शिवधनी वर्मा, रामनवल प्रसाद, कैलाश, लालती देवी, पुना देवी, मराछी देवी, सुमित्रा देवी, सरजू, फूलपत्ती देवी, बदामी देवी,रीता देवी,बासमती देवी, सोनमती देवी, छेदी, असलम अली, चाँदबली गौड़, रामई गौड़, धीरज गौड़ के साथ हजारों किसान मौजूद रहें|

About the author

Aditya Prakash Srivastva