उत्तर प्रदेश कुशीनगर क्राइम राज्य

कुशीनगर : पुलिसिया कार्यवाही के चूक के कारण दोनोंं युवकोंं की गई जान

News
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

रमाशंकर चौधरी, कुशीनगर केसरी/kknews24 खड्डा/कुशीनगर(१३ मार्च)। खड्डा थाना क्षेत्र में सोमवार रात में बन्धू छपरा के दो युवको की नृशंस हत्या के बाद लोगों में चर्चा है कि यह घटना पुलिसिया कार्यवाही के चूक के कारण दोनोंं युवकोंं की जान चली गयी। अगर पुलिस संवेदनशील रही होती तो उक्त घटना नही होती और इसका जिम्मेदार पूर्व इंसपेक्टर व वर्तमान प्रभारी निरीक्षक को मान रही है।
बता दें कि पुलिस का मानना है कि जमीनी रंजिश के कारण यह घटना हुयी है लेकिन यह बात सही है और इसकी जानकारी मृतक राजकुमार के पिता चन्द्रिका ने पहले से ही राजस्व व पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को दी थी। आए दिन दोनो परिवार में बढती कटुता ने कभी मुर्गी फार्म में आग लगाने का आरोप एक पक्ष दूसरे पक्ष पर लगा कर उत्पीडन करता रहा।

गौरतलब है कि वहीं राजकुमार मद्धेशिया पुत्र चन्द्रिका निवासी बंधूछपरा थाना खड्डा प्रथम वर्ष प्रशिक्षित संघ का कार्यकर्ता है। वहीं बंधूछपरा में इसके घर के बगल में मुसलमानों का घर है। उन्हीं से इसके पिता का जमीनी विवाद काफी लम्बे समय से चला आ रहा है। इसी विवाद को लेकर बीते 26 दिसम्बर को राजकुमार व उसके पिता पर जानलेवा हमला कर मरणासन्न कर दिया गया था। राजकुमार की बहन के उपर तेजाब फेंका गया था। इसमें आरोपियों पर 308 का मुकदमा दर्ज हुआ था। आरोपी बाद में जेल से छुट गये थे। हद तो तब हो गयी जब 26 दिसम्बर 18 को दूसरे पक्ष ने चन्द्रिका व राजकुमार को धारदार हथियार से हमला कर गंभीर रुप कर दिया और उसके लडकी पर तेजाब फेंक दिया। इस गभीर अपराध में तत्कालिन प्रभारी निरीक्षक अनुज सिंह ने साधारण ढंग से पाबन्द कर दिया। उपजिलाधिकारी न्यायालय में तेजाब फेकने वाले को जमानत मिल गयी। यह भाजपा के खण्ड मंडल अध्यक्ष धर्मेन्द्र राव ने उक्त कारगुजारी को पुलिस अधीक्षक कुशीनगर को बतायी तो कोई र्कावाही नही की तब पडरौना आए उपमुख्यमंत्री के समक्ष पार्टी पदाधिकारियों ने उठाया तब जाकर उक्त प्रभारी निरीक्षक स्थान्तरण हुआ। अब जाकर चन्द्रिका के लडके की हत्या हो गयी इसके लिए लोग पुलिस को कसूरवार मान रहे है कि समय रहते कार्यवाही नही करने का परिणाम है कि आज राजकुुुमार और उसके मित्र की हत्या हो गई। जब पुलिस ऐसे हीं काम करेगी तो लोगों का पुलिस पर से विश्वास उठता जा रहा है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva