उत्तर प्रदेश क्राइम राज्य सोनभद्र

सोनभद्र : लगभग 3 वर्षों से शादी का झांसा देकर करता रहा बालात्कार, पीड़िता के बार-बार कहने पर मंदिर में रचाई झूठी शादी

News
  •  
  •  
  •  
  • 57
  •  
  •  
  •  
  •  
    57
    Shares

अनूप श्रीवास्तव कुशीनगर केसरी/ kknews24 सोनभद्र(१७ मार्च)। शादी का आश्वासन देकर अपने दूसरे धर्म की लड़की से जबरन बलात्कार करता रहा। जब लड़की ने मनोज यादव से शादी की बात करती तब वह टाल जाता था लेकिन एक दिन मनोज ने साईं मंदिर में जाकर पीड़िता के साथ उसकी मांग में सिंदूर डालकर शादी कर लिया। शादी के बाद से पीड़िता के मां-बाप ने उसको घर से बेदखल कर दिया। उसके बाद दोनों किराए के मकान में एकसाथ रहने लगे लेकिन एक दिन अचानक मनोज ने पीड़िता को छोड़ कर फरार हो गया। जब उसने मनोज को खोजते हुए उसके घर गई तो उसके भाई, बहन आदि ने मिलकर मारपीट करते हुए भद्दी भद्दी गाली दे कर घर से निकाल दिया और धमकी भी दिया कि मेरे भाई से दूर हो जाओ वरना अंजाम बुरा होगा।

गौरतलब है कि मनोज यादव पुत्र सुग्रीव यादव उम्र-२७ वर्ष, निवासी यूको बैंक कॉलोनी रेणुकूट थाना सोनभद्र ने मोहम्मद अली हसन निवासी गोरखपुर कॉलोनी डी टाइप के बगल में वार्ड नंबर 7 तुर्रा सोनभद्र की बेटी के साथ प्रेम प्रसंग बढ़ाना शुरू कर दिया। जब प्रेम परवान चढ़ा तब घर वालों ने पाबंदी लगाना शुरू किया तो मनोज जी पीड़िता को शादी का झांसा देकर लेकर फरार हो गया। पीड़िता ने बताया कि मनोज यादव फरवरी 2016 से उसके साथ शारीरिक संबंध बनाना शुरू कर दिया। जब वह इसका विरोध करती थी तब वह शादी का झांसा देकर उसको मना लेता था। आगे पीड़िता ने बताया कि धीरे-धीरे समय बीतने के बाद 2016 में ही संबंध बनाने के दौरान वह गर्भवती हो गई। जब उसने यह बात मनोज को बताई तो उसने अपनी बहन संगीता से मिकर दवा कराने के बहाने चंदौली ले जाकर जबरदस्ती अबॉर्शन करवा दिया। जब पीड़िता ने फिर इस पर मनोज से ऐतराज जताया तो मनोज ने साईं मंदिर ले जाकर मंदिर में शादी कर लिया। वह क्या जानती थी यह शादी भी एक छलावा था। उसने इस शादी को अपने जीवन में एक अहम मोड़ मानते हुए मनोज के साथ अपने वैवाहिक जीवन को सुलभ करना शुरू कर दिया। उस दौरान पीड़िता को 16 जनवरी 2019 को घर पर नार्मल एक बच्ची को जन्म दिया। बच्ची घर पर ही नॉर्मल डिलीवरी से पैदा होने के उपरांत 3 दिन बाद जब बच्ची की तबीयत बिगड़ी तो आनन-फानन में मनोज बच्ची को हिंडालको अस्पताल में दिखाने ले गया जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। तब मनोज यादव ने उस बच्ची का अंतिम संस्कार डोंगिया नाला मे उस बच्ची का अंतिम संस्कार कर दिया।
पीड़िता ने आगे बताया कि उसके बाद मनोज उससे कटा-कटा सा रहने लगा और एक दिन सामान लेने के बहाने घर से बनारस निकल गया। भोली-भाली रुबीना ने उसके बात पर विश्वास करके उसके इंतजार में दिन काटने लगी। उसको झटका उस समय लगा जब मनोज दो-तीन दिन बाद वापस नहीं आया और वह मनोज को ढूंढते हुए पीड़िता उसके घर यूको बैंक कॉलोनी वार्ड नंबर 7 पर गई तो मनोज की बहन संगीता, काजल, रानी व अंजलि ने बुरी तरह मारा-पीटा तथा जान से मारने की धमकी देते हुए भगा दिया। इस दौरान पीड़िता ने 100 नंबर पर फोन किया और पुलिस को बुलाया तब वहां से जिंदा वापस आ सकी पुनः किराए के मकान में रहते हुए पुलिस को प्रार्थना पत्र दिया लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। 11 मार्च 2019 की रात में लगभग 9:00 बजे मनोज के भाई दिलीप यादव व लल्लू यादव चोरी से मनोज की दुकान “काजल मोबाईल रिपेयरिंग” हिंडाल्को पेट्रोल पंप के सामने से सारा मोबाइल व सामान अपने घर उठा ले गए। जब पीड़िता ने इसका विरोध किया तो बोले कि अपने भाई को हम लोग हींं भगाए हैं तुमको जो करना हो कर लो वह तुमसे शादी नहीं करेगा। उसको जो करना था वह कर चुका है। जबकि वह भगवान को साक्षी मानकर पीड़िता से शादी भी कर चुका है।
इस बाबत जब थानाध्यक्ष की पीपरी से बातचीत किया गया उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में है पीड़िता को सोमवार को बुलाया गया है ताकि मामले का निस्तारण किया जा सके। आगे बताया कि पीड़िता को पूरा न्याय मिलेगा।

About the author

Aditya Prakash Srivastva