उत्तर प्रदेश क्राइम राज्य सोनभद्र

सोनभद्र :: मारपीट की सूचना पर पहुंची पुलिस को मिला अवैध हथियार व विस्फोटक का जखीरा, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस

News
  •  
  •  
  •  
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

अनूप श्रीवास्तव, सोनभद्र(१२ अप्रैल)। मारपीट के मामले में सूचना पर पहुंची पीआरबी पुलिस को अवैध हथियार व विस्फोटक जिलेटिन के छड़ें मिलने से पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया। इस घटना में नक्सली गतिविधि होने की आशंका से पुलिस अधीक्षक समेत जिले की समस्त पुलिस अधिकारियों ने जंगलों में खोजबीन किया।
बता दें कि हरियरी में कुछ दिनों पूर्व नदी में अवैध बालू लोड करने के उपरांत टीपर फंस जाने से गांव के लोग निकालने गए थे। जिसमें फावड़ा गायब हो गया फावड़े के विवाद में फुलवा व उसके देवर छोटू में सोमवार की सुबह 5:00 बजे आपस में झगड़ा हो गया था। इस बात को फुलवा ने अपने पिता रामधनी को जानकारी दी। फुलवा के पिता ने बुधवार को हरियरी पहुंच कर मामले की जानकारी ली और गुरुवार को चोपन थाने में पहुंचकर अपने पुत्री की पिटाई किए जाने को लेकर नामजद दो व्यक्तियों के खिलाफ तहरीर दी। मारपीट की घटना में शामिल मनोज खरवार को जब पता चला कि फुलवा देवी ने उसके नाम से थाने में तहरीर दी है इससे छुब्ध होकर मनोज खरवार ने फुलवा देवी व उसके पिता रामधनी को लाठी डंडे से पीट-पीटकर लुहलुहान कर दिया तो रामधनी ने इस घटना की जानकारी पुलिस को दी। मारपीट की सूचना पर पहुंची पीआरबी पुलिस को बालक द्वारा बताया गया कि मनोज के गाय बांधने वाले जगह पर बंदूक छिपा कर रखा है तो पीआरबी पुलिस द्वारा उक्त स्थल का निरीक्षण किया गया तो एक दो नाली बंदूक और १२ विस्फोटक छड़ मिला जिसका इस्तेमाल विस्फोट में किया जाता है। पुलिस ने इस घटना की जानकारी पुलिस द्वारा संबंधित अधिकारियों को दी तो पुरे जिले में तहलका मच गया सूचना मिलते ही गुरुवार की रात्रि 9:00 बजे चोपन, ओबरा, हाथीनाला, डाला कि पुलिस के साथ पुलिस अधीक्षक ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौके का जायजा लिया और घटनास्थल पर रात्रि 12:00 बजे तक पुलिस का जमवाड़ा उस घनघोर जंगल में लगा रहा। शुक्रवार की सुबह अपर पुलिस अधीक्षक ने दो प्लाटून पीएसी ओबरा, चोपन, डाला, हाथीनाला पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थल का जायजा किया। क्षेत्र में गहन छानबीन भी किया। ग्रामीणों से जानकारी भी ली।
इस दौरान ग्रामीणों ने बताया कि मोहन खरवार गढ़वा जिले का रहने वाला है और उसका इसी गांव में शादी हुई है। शादी होने के बाद से इसी गांव में वह रह रहा है। 2016 से हीं हरियरी गांव में रह रहा था और एक जगह कहीं भी स्थाई रूप से नहीं जाता था। प्राय: बात बात पर हर व्यक्ति को किसी न किसी मामले में झगड़ा करता रहता था और गांव में दहशत फैला कर रखा था। गांव के लोगों ने बताया कि पूर्व में समय-समय पर मनोज खरवार से मिलने के लिए 5-7 की संख्या में नकाबपोश असलहे के साथ अंधेरा होने के बाद अक्सर आया करते थे। इस घटना के संदर्भ में चोपन इन्सपेक्टर प्रवीण कुमार ने बताया कि मनोज खरवार झारखंड के गढ़वा जिले के नक्सली महेंद्र खरवार का साथी है। पुलिस मनोज खरवार के बारे में जानकारी जुटा रही है। मनोज कुमार चेरो पुत्र चंद्रिका निवासी हेसलदाग चेरवाडीह जिला गढ़वा झारखंड के विरुद्ध विस्फोटक अधिनियम व आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत कर पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment