उत्तर प्रदेश कुशीनगर चुनाव राजनीति राज्य

कुशीनगर :: गरीबी हटाने के लिए भाजपा सरकार जरूरी :: राम विलास पासवान

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुनील कुमार तिवारी, कुशीनगर केसरी/kknews24 कुशीनगर(०१ मई)। भाजपा प्रत्याशी विजय दूबे के लिए वोट मांगने आए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और प्रदेश सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने प्रधानमंत्री को एक बार फिर कुर्सी सौंपने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि गरीबों का राज कायम हो इसके लिए भाजपा वोट मांग रही है। लोकसभा चुनाव में कुशीनगर सीट से भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और प्रदेश सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य व राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त राजेश्वर सिंह ने जनसभा को संबोधित किया। लक्ष्मीगंज बाजार में आयोजित जनसभा में पिछड़ों और दलितों को साधते हुए नेताओं ने एक बार फिर मोदी सरकार का नारा बुलंद किया।पासवान ने विपक्षी दलों पर चुटकी लेते हुए कहा कि इस बार प्रधानमंत्री पद के लिए कोई वेकेंसी नहीं है, फिर भी कई लोग दौड़ में शामिल हो रहे हैं.बीजेपी प्रत्याशी के लिए मांगे वोट। पीएम की तारीफ में पढ़े कसीदे।
प्रत्याशी विजय दूबे के संबोधन के बाद प्रदेश सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने प्रधानमंत्री को एक बार फिर कुर्सी सौंपने का आह्वान किया। केन्द्रीय मंत्री और लोजपा अध्यक्ष राम विलास पासवान ने बड़े ही सधे अंदाज में विपक्षी दलों पर चुटकी लेते हुए कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए बहुत सारे लोग दौड़ में लगे हुए हैं लेकिन उन्हें पता नहीं है कि 2019 के चुनाव में प्रधानमंत्री पद की कोई वेकेंसी ही नहीं है। पासवान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए यह सीट एक बार पुनः आरक्षित होना बताया। पासवान ने कहा कि हम विकास के नाम पर, गरीब का राज कायम करने के नाम पर और सामाजिक न्याय कायम करने के लिए वोट मांगने आए हैं। केंद्रीय मंत्री पासवान ने कहा कि आज भी दो तरह का भारत है। एक गरीबों का, दूसरा अमीरों का.उन्होंने कहा कि आज मजदूर दिवस है। ऐसे मौके पर श्रम की महत्ता का वर्णन करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार द्वारा गरीब हित में बीते दिनों में किए गए कार्यों को गिनाया। दलित नेता पासवान ने कहा कि मोदी जी ने 2022 तक सभी गरीब लोगों को घर देने का आश्वासन किया है। इसके लिए जोर-शोर से काम भी हो रहा है। उन्होंने बताया कि अभी तक एक करोड़ चालीस लाख लोगों को आवास दिया जा चुका है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva