उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति

कुुशीनगरःलक्ष्मीगंज बन्द चीनी मिल को चलवाने के लिए भारतीय किसान यूनियन(भानु) ने किया बैठक

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

डेस्क,कुशीनगर।भारतीय किसान यूनियन (भानु) की जिला इकाई,कुशीनगर के जिलाध्यक्ष रामचन्द्र सिंह की अध्यक्षता में जनपद के कप्तानगंज तहसील अंतर्गत ग्राम लालाछपरा टोला भटवलिया में लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मिल को चलवाने के लिए एक बैठक किया गया। सबसे पहले यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने देश मे भारतीय जनता पार्टी दोबारा सत्ता में आने और नरेन्द्र मोदी को दुबारा प्रधानमंत्री बनाने के ऊपर ख़ुशी ब्यक्त किया और सबको बताया की देश के किसान, गरीब और मजदूर तबके के लोग बीजेपी सरकार पर विश्वास करके वोट दिया है और इनको बहुमत के साथ दोबारा केंद्र में भेजा है और इस आशा के साथ कि यह सरकार किसानों, गरीबों और मजदूरों का ख्याल रखेगी। उसके बाद किसानों की समस्याओं पर विचार विमर्श किया गया और लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मिल को चलवाने के लिए अगली रणनीति क्या होगी उसके ऊपर विधिवत चर्चा किया गया।
बताते चले लक्ष्मीगंज बन्द चीनी मिल को चलवाने के लिए भारतीय किसान यूनियन (भानू) की जिला इकाई, कुशीनगर के जिलाध्यक्ष रामचन्द्र सिंह की अध्यक्षता में लगातार इकसठ दिन अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन किया गया था उसके बाद भी केंद्र और राज्य सरकार इस मील को चलवाने के लिए घोषणा नही किया जो इस परिक्षेत्र के किसानों के साथ धोखा है। इसी सम्बन्ध में यूनियन के जिलाध्यक्ष श्री सिंह ने पुनः मील को चलवाने के लिए किसानों के साथ विचार विमर्श किया और मील को चलवाने के लिए अगली रणनीति तैयार किया गया। कुछ किसानों का कहना है की बृद्धा और विधवा पेंशन कई महीनों से लाभार्थियों के खाते में नही आ रहा है। किसान सम्मान योजना में भी कई गावों के किसानो जैसें ग्रामसभा लालाछापर, चन्दर पुर, देवरियाबाबू और तरकुलवा के खाते में दो दो हजार रुपये अभी तक नही पहुँच पाए है। कुछ किसानों का कहना है कि अभी हमारा गन्ना खेतों में पड़ा है और जनपद की पांच चीनी मिलों में से तीन चीनी मिलें बन्द हो गयी और हमारे गन्ना की पेराई कैसे होगा। आगे श्री सिंह ने किसानों को सम्बोधित करते हुए बताया की हम शासन प्रशासन को अवगत करा चुके है कि जब तक किसानों के गन्ने की एक एक पेड़ी की पेराई नही हो जाती तबतक मील बन्द नही किया जाएगा साथ ही साथ बृद्धा और विधवा पेंशन, किसान सम्मान योजना में किसानों के खाते में दो दो हजार रुपये तत्काल नही पहुँचा तो हमारा यूनियन आन्दोलन की डगर पर चलने के लिए बाध्य हो जाएगा जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। इस मौके पर हरि जी, बबलू खान, कृष्ण गोपाल चौधरी, प्रभु भारती, रामनरायन यादव, रामाश्रय वर्मा, चेतई प्रसाद,रामनवल प्रसाद, धीरज गौड़, बादामी देवी, सुमित्रा देवी, फूलपत्ती देवी, गुलाईची देवी, मीरा देवी, विमला देवी के साथ साथ अन्य कार्यकर्ता और किसान मौजूद रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva