उत्तर प्रदेश कुशीनगर क्राइम राज्य

कुशीनगर :: दिन के उजाले मे ही शराब तस्करी जोरों पर, पुलिस का मौन समर्थन में

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मु. कैस अंसारी, कुशीनगर केसरी/kknews24 तमकुही राज/कुशीनगर(०३ जून)। तरया सुजान थाना क्षेत्र के दनियाडी क्षेत्र में इन दिनों एक बार फिर बनावटी शराब के धंधेबाजों के साथ शराब तस्करो ने जलवा बना रखा है। दिन के उजाले मे ही मोटर साइकिल व चार पहिया सवार तस्कर बे रोक टोक तस्करी कर बिहार के विभिन्न गाँवो में शराब के अवैध खेप पहुचा रहे हैं। जबकि बिहार सरकार ने बिहार में पूर्ण रूप से शराब निषेध है।
बताते चलेंं की क्षेत्र की जनता कुछ महीने पूर्व इस तरह जहरीले शराब के सेवन का परिणाम देख चुकी है।
जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्र के दनियाडी ,सिसवा नाहर, तिनफेडिया से देशी शराब की तस्करी अपने चरम पर है। यहाँ तक तो ठीक तस्करोंं के साथ साथ दुकान मालीको के सह पर बेलगाम मुनीबो ने भी पुलिस की कलयी खोलने मे कोई कसर नहीं छोड रहे। इनका खुलेआम पुलिस को दियेजा रहे घूस का जिक्र करना आम लोगों मे चर्चा का विषय बना हुआ है।

लिहाजा समाज सेवी किस्म के लोगों का भी रोक थाम करना टेडी खीर साबित हो रही है। देशी शराब के सरकारी ठीके से तस्करी के लिए ले जा रहे आधा दर्जन मोटर साइकिल सवार तस्करोंं को कुछ समाजसेवीयो ने रोक सोसलमिडिया पर विडियो वायरल कर दिया। इस दौरान मुनीब ने इस बात को स्वीकार किया की पुलिस के साथ संबंधितो को इसके एवज में मोटी रकम पहुचायी जाती हैं। जिसे जान लोग हतप्रभ रह गये और तरया सुजान पुलिस के क्रियाकलापों की निन्दा करते रहे।  यहां तो तस्करों का मनोबल ऐसे बड़ा है जैसे लोक कहावत कहते “सैंया भए कोतवाल डर काहे का”। बता दें कि इसी शराब तस्करी के चलते अभी  कुछ ही माह पहले  अबकारी विभाग सहित  दरिया से जान के  थाने के  सभी सिपाहियों को  इसकी सजा भुगतनी पड़ी है लेकिन क्या मजबूरी पुलिस को है की फिर से तरयासुजान थाने में अवैध कच्ची शराब की तस्करी जोरों पर है।

वहीं एक अन्य खबर के अनुसार तरयासुजान थाना क्षेत्र के गौरहा में डायल 100 के दरोगा ने उत्पात मचाया और बालू लदी डीसीएम को रोक कर ड्राइबर से कागज मांंगा। ड्राइवर गाड़ी का कागज व बालू का रियल्टी पेपर दिखया तो दरोगा बशिष्ठ शर्मा ने भड़क गया व ड्राइवर को पीटते हुए ड्राइवर के जेब से 2985 रुपया निकाल लिया और कहा कि जाओ जहा जना है जाओ मैं चाहूंगा तो तुम्हरा गाड़ी चलेगा नही तो नही। आखिर कब तक इस दरोगा का यह खेल चलेगा। आखिर जिमेदार कब तक इनपर मेहरबान रहेंगे। इनके द्वरा क्षेत्र में अबैध शराब का कारोबार को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। इतना ही नही ये महानुभव बिहार बार्डर तक अपने गाड़ी से शराब की खेप पहुचाने में मदद भी कर रहे है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva