उत्तर प्रदेश क्राइम राज्य सोनभद्र

सोनभद्र :: वाह रे योगी की पुलिस……….अपराध जगत पर शिकंजा कसने मे फिसड्डी पुलिस ने अपना पीथ थपथपाने के लिए अंधे लड़के को बनाया मुजरिम, किया गिरफ्तार

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अनूप श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/kknews24 रेणुकूट/सोनभद्र(०९ जून)। सूबे की योगी सरकार अपराधियों पर लगाम कसने के लिए बार-बार चेतावनी दे रही है लेकिन अपराधियों पर लगाम कसने में नाकाम हो रही पुलिस ने जबरन रात में एक अंधे व्यक्ति को गिरफ्तार कर मुजरिम बना दिया। मांं रोती बिलखती रही लेकिन नशे में धुत थाना प्रभारी व सिपाही ने महिला से जबरन उसके अंधे बेटे को घसीट कर अपने गाड़ी में बैठा लिया और थाने ले आए। जबकि थाना प्रभारी के पास न तो कोई वारंट था और ना ही कोई उच्चाधिकारियों द्वारा दिया गया आदेश लेकिन उस अंधे लड़के ने कौन सा जुर्म किया था जिसको थाना प्रभारी नशे में धुत होकर रात मेंं छापेमारी उसको गिरफ्तार किया। इसके कारण का अभी तक पता नहीं चल पाया हैै। जनता में चर्चा है कि  पुलिस सही अपराधियों को पकड़ने में नाकाम हो रही है  तो किसी भी आम व्यक्ति को चाहे वह अंधा ही क्यों ना हो  जबरन मुजरिम बना कर गिरफ्तार कर जेल भेजने का कार्य कर रही है। जबकि कोर्ट का निर्देश है कि पुलिस को रात में दबिश देने के लिए पर्याप्त आदेश होने चाहिए और साथ में महिला पुलिस भी साथ में होनी चाहिए लेकिन थाना प्रभारी पिपरी ने दबंगई दिखाते हुए अपने हमराही के साथ पहुंचकर घर में मां और बहन के बीच से जबरन  उसके अंधे लड़के को उठा कर लाई। वाह रे योगी की पुलिस।

गौरतलब है कि पिपरी थाना के प्रभारी मूलचन्द चौरसिया ने अपराध जगत के बढावा को लेकर समाचार पत्रोंं मे आने पर हिरोईन पर शिकंजा कसने के उद्देश्य से सादे पोशाक मेंं अपने हमराही के साथ नीली पुलिस गाडी मेंं शनीवार की रात्री 10,00बजे अंधे लडके वीरू पुत्र स्वर्गीय भोला सिह को गिरफ्तार किया। जिससे विलाप करती मांं मिना कुमारी ने अपने अंधे पुत्र को दोनो हाथोंं से जोरो से पकडी हुई थी। जिसे पिपरी थाना प्रभारी और सादे ड्रेस मे हमराही उसे छुडाते रहे मगर वह मा अपने अंधे पुत्र को छोडने का नाम नही ले रही थी। जिसको छुड़ाने मे थाना प्रभारी मूलचंद चौरसिया के पशीना निकल गया। मजे की बात तो यह रही की कोई साथ मे महिला कास्टेबल भी नही थी। अन्तोगत्वा मा महिला मीना का हाथ मडोडकर छुडाने मे कामयाबी मिल ही गयी रो रही महिला लाखो बार पूछती रही की हमारे लडके को क्यू ले जा रहे है मगर किसी ने बताना मुनासिब नही समझा व उस महिला के अंधे बेटे को पुलिस गाडी मे बैठाने मे कामयाब रही।

मांं मिना ने बताया कि मै और मेरा अंधा बेटा अपने बेटी के साथ बैठी थी कि उतने मे साहब आकर उसका हाथ पकड कर ले जाने लगे यही नही पुलिस हमराही भी साहब के साथ नशे मे थे। मामला जो भी हो मगर इस प्रकार के नजारे को देखकर उपस्थिति लोग स्तब्ध रह गये और चूकि पुलिस का मामला था तो लोग इस प्रकार की कारवाई को देखकर भयभीत हो गये। लोगो का कहना था कि पुलिस कप्तान सलमान ताज पाटिल अच्छे पुलिस अधिकारी हैंं मगर थाना प्रभारी के इस कृत्य से जरूर चिन्तित होगे! आखिर कार अंधे पुत्र वीरू की विधवा मा रोते विलखते घर चली गयी जब न्याय के रखवाले विवेक शून्य कारवाई करे तो अपराध जगत के लोगो मे तो हिम्मत बढेगा हींं ! वाह रे योगी की पुलिस।

About the author

Aditya Prakash Srivastva