उत्तर प्रदेश क्राइम राज्य सोनभद्र

सोनभद्र :: खनन माफियाओं का दुस्साहस – अवैध बालू उत्खनन कर रहे ट्रैक्टर को रोकने पर खनन माफियाओं ने घर में घुसकर परिजनों से किया गाली गलौज व मार -पीट

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पवन राय/प्रमोद तिवारीकुशीनगर केसरी/kknews24,सोनभद्र(०९जून)। दुद्धी तहसील अंतर्गत पीला सोना अर्थात बालू के नाम से मशहूर परिक्षेत्र इन दिनों अवैध उत्खनन को लेकर सुर्खियों में है और हो भी क्यों ना ? आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र सफेदपोश के लिए सबसे महफूज स्थान जो है। उधर पांगन नदी से अवैध उत्खनन के रोक के लिए जहां क्षेत्रीय विधायक हरिराम चेरो की पहल पर अवैध परिवहन करने वाले वाहनों की धरपकड़ और बैरियर लगने के कारण अवैध ओवरलोड परिवहन आदि में सुधार हुआ है वहीं विंढमगंज रेंज अंतर्गत अवैध बालू उत्खनन करने वाले ट्रैक्टर संचालकों के द्वारा घटना,गत दिनांक 7 मई मध्यरात्रि मेरे द्वारा आवेदित परी क्षेत्र से अवैध उत्खनन करने के सूत्रों द्वारा सूचना पर रोक-टोक करने पर विजय शंकर चौबे निवासी ग्राम- पतरिहा पोस्ट – महुली सोनभद्र के घर अनिल कुशवाहा पुत्र जवाहर कुशवाहा व रंजीत कुशवाहा पुत्र शिवकुमार कुशवाहा निवासी ग्राम डुमरा पोस्ट महूली विंढमगंज सोनभद्र, मध्य रात्रि को खनन कर लौट रहे थे जिसका विरोध श्री चौबे और अन्य द्वारा किया गया, जिस पर अनिल और रंजीत उपरोक्त द्वारा गाली गलौज और जानमाल की धमकी मध्य रात्रि में दी गई।
मनबढ़ लोग सुबह गोलबंद होकर लाठी-डंडे, राड, से लैस ट्रैक्टर और निजी वाहनों के द्वारा 40 लोगों का गिरोह बनाकर घर पर पहुंचे, जहां पर परिजनों से गाली गलौज महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार करने लगे व प्रार्थी घर में सोया था को अमरनाथ कुशवाहा पुत्र वीरन राम, अनिल पुत्र जवाहिर, रंजीत पुत्र शिव कुमार, शिव कुमार पुत्र राम प्रसाद, शंभू पुत्र रामप्रसाद, श्याम नारायण पुत्र रामप्रसाद, जवाहिर पुत्र वीरन राम, प्रकाश पुत्र शिव कुमार, नीरज पुत्र अमरनाथ, प्रदीप पुत्र श्याम नारायण, अन्य अज्ञात द्वारा बिस्तर से खींच कर बाहर करने, पत्नी को बाह पकड़कर खींचने, प्रातः दूध दूह रहे लड़के को लाठी से पीटने आदि प्रकरण को लेकर शिकायतकर्ता द्वारा उपरोक्त आरोप के साथ परिजनों का जान माल की सुरक्षा से भयाक्रांत प्राथमिकी दर्ज कर विधि सम्मत कार्रवाई किए जाने की मांग दिए गए तहरीर में किया गया है। इस प्रकार से खुलेआम अवैध उत्खननकर्ताओं द्वारा विंढमगंज रेंज में खनन शासन के रोक के बावजूद कैसे हो रहा है यह गंभीर जांच का विषय है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva