उत्तर प्रदेश देश प्रयागराज राज्य

मंडलायुक्त ने मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के कार्यों की प्रगति समीक्षा की ,एक सप्ताह में विभिन्न पाठ्यक्रमों का लेक्चर शेड्यूल/ टीचिंग कैलेंडर बनाकर प्रस्तुत करने तथा शिक्षकों के मानदेय का भुगतान तुरंत करने का निर्देश दिया ।

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राम आसरे- (कुशीनगर केसरी)

प्रयागराज :शासन की मंशा के अनुरूप एवं मुख्यमंत्री के निर्देश के क्रम में मंडलायुक्त, संजय गोयल, ने गांधी सभागार में आज मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के अंतर्गत हो रहे कार्यों की प्रगति समीक्षा की। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के पाठ्यक्रमों से संबंधित आवश्यक जानकारी लेते हुए उन्होंने संबंधित अधिकारियों को हर विषय का लेक्चर शेड्यूल बनाने के निर्देश दिए जिससे पाठ्यक्रम का शेष हिस्सा ऑनलाइन क्लासेस के माध्यम से निर्धारित समय सीमा में समाप्त किया जा सके। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के कारण जो समय बर्बाद हुआ है उसके दृष्टिगत लेक्चर शेड्यूल्स की रिस्ट्रक्चरिंग करना अनिवार्य है। मंडलायुक्त ने समय प्रबंधन की उपयोगिता पर जोर देते हुए अधिकारियों से एक सप्ताह में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के पाठ्यक्रमों का टीचिंग कैलेंडर बनाकर उनके समक्ष प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिए हैं। टीचिंग कैलेंडर की उपयोगिता बताते हुए गोयल ने कहा कि इससे विद्यार्थियों को कौन सा लेक्चर अटेंड करना है और कौन सा नहीं यह चयनित करना सरल हो जाएगा। सभी विषयों पर बिंदुवार चर्चा करते हुए मंडलायुक्त ने अधिकारियों को सारा स्टडी मैटेरियल विद्यार्थियों में जल्द से जल्द वितरित करने तथा रविवार के दिन मिस हुए लेक्चरर्स फिर से करवाने की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराने को कहा है। गोयल ने यह भी स्पष्ट किया कि स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत जनपद में स्मार्ट क्लासेस पर भी कार्य हो रहा है जो जल्दी पूरा हो जाएगा, अतः उसके दृष्टिगत भी सारी तैयारियां पूरी रखें। विभिन्न विषयों को पढ़ाने हेतु चयनित शिक्षकों की जानकारी देते हुए उप निदेशक समाज कल्याण, मंजूश्री श्रीवास्तव, ने अवगत कराया कि विद्यार्थियों के लाभ हेतु कई विषयों के शिक्षकों को बाहर से भी बुलाए जा रहा है। इस बिंदु पर मंडलायुक्त ने टिप्पणी करते हो हुए निर्देशित किया कि हर अध्यापक के मानदेय का भुगतान जल्द से जल्द कराना सुनिश्चित कराएं। बैठक में उपनिदेशक अर्थ एवं संख्या दिनेश कुमार सिंह, समाज कल्याण अधिकारी प्रवीण कुमार सिंह एवं अन्य अधिकारीगण भी उपस्थित रहे।

About the author

Aditya Prakash Srivastva