उत्तर प्रदेश मिर्जापुर राजनीति राज्य

मिर्जापुर :: राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्षा ने जिला महिला चिकित्सालय, पिंक बूथ आदि का किया निरीक्षण व विन्ध्यवासिनी माता, अष्टभुजा माता व काली माता के दर्शन पूजन कर त्रिकोण की किया परिक्रमा पूर्ण

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव/तेजश्वीनी श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/kknews24, कुशीनगर(२३ जून)। उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्षा श्रीमती सुषमा सिंह जी (उप मंत्री स्तर प्राप्त) के जनपद आगमन, जिला महिला चिकित्सालय, पिंक बूथ आदि का निरीक्षण किया तथा अधिकारियों को चिकित्सकीय व्यवस्था को और बेहतर व सुगम बनाने हेतु निर्देश दिया। निरीक्षण के समय मुख्य चिकित्साधिकारी, अधीक्षक महिला जिला चिकित्सालय व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहें।

बता दें कि श्रीमती सुषमा सिंह जी उपाध्यक्षा उ0प्र0 राज्य आयोग (उप मंत्री स्तर प्राप्त) द्वारा जिला महिला चिकित्सालय, मीरजापुर का निरीक्षण किया गया। उपाध्यक्ष ने आपरेशन थियेटर, प्रीडिलेवरी, पोस्ट डिलेवरी, जनरल वार्ड, सर्जिकल वार्ड आदि का निरीक्षण किया। इसके साथ ही पिंक बूथ आदि का निरीक्षण किया तथा उपस्थित अधिकारियों को चिकित्सकीय व्यवस्था को और बेहतर व सुगम बनाने हेतु निर्देश दिया। उपाध्यक्ष जनपद मीरजापुर में संचालित वृद्ध महिला आश्रम व महिला स्वास्धार गृह, वन स्टाप सेन्टर के बारे में विस्तृत समीक्षा की। संस्थाओ में आवासित वृद्ध माताओं व महिलाओं के कोविड-19 वेक्सिनेशन के बारे में पूछ जाने पर जिला प्रोबेशन अधिकारी शक्ति त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि संस्था में आवासित महिलाओं को कोविड-19 के वेक्सिनेशन का डोज लगवाये जाने हेतु सम्बन्धित संस्था अधीक्षक को निर्देशित किया गया है। जिसपर महोदया ने जिला प्रोबेशन अधिकारी व जिला समाज कल्याण अधिकारी को निर्देश दिया कि वे तत्काल कार्यवाही करते हुए संस्थाओं में आवासित वृद्ध माताओं व महिलाओं का शतप्रतिशत वेक्सिनेशन कराना सुनिश्चित करें, कोई भी महिला वैक्सिनेशन से वंचित न रह पाये। उपाध्यक्षा ने महिला कल्याण विभाग द्वारा सभी योजनाओं की समीक्षा भी किया तथा बाल सेवा योजना, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के बारे में पूछे जाने पर जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि जनपद मीरजापुर में मुख्यमंत्री बाल सेवा योजनान्तर्गत कुल 40 ऐसे बच्चो को चिन्हित किया गया, जिसके माता-पिता दोनो या माता या पिता की मृत्यु कोविड-19 से हो गई है, जिसमें से 15 बच्चों के अभिभावक की आर्थिक आय निर्धारित सीमा से अधिक होने, बच्चो की उम्र 18 वर्ष से अधिक होन व अन्य निर्धारित पात्रता की शर्तो के आधार पर अपात्र पाये गये तथा 07 आवेदन पत्र जिला टास्क फोर्स द्वारा स्वीकृत हो गया है, शेष 18 बच्चो के आवेदन पत्रो को सत्यापन हेतु सम्बन्धित उप जिलाधिकारी/खण्ड विकास अधिकारी को प्रेषित किया गया। सत्यापनोपरान्त आवेदन पत्र जिला टास्क फोर्स के समक्ष स्वीकृति हेतु प्रस्तुत करते हुए अग्रेत्तर कार्यवाही की जायेगी। जिसपर महोदया ने जिला प्रोबेशन अधिकारी को मुख्यमंत्री बाल सेवा योजनान्तर्गत सभी पात्र लाभार्थियों का चिन्हांकन करते हुए शतप्रतिशत लाभान्वित करने हेतु निर्देश दिया। इसके बाद उपाध्यक्ष महोदया ने विन्ध्यवासिनी माता, अष्टभुजा माता व काली माता के दर्शन पूजन कर त्रिकोण की परिक्रमा पूर्ण किया।

About the author

Aditya Prakash Srivastva