उत्तर प्रदेश मिर्जापुर राज्य

मिर्जापुर :: कमिश्नरी व कलेक्ट्रेट में धूमधाम से मनाया गया भारत रत्न पं0 गोविंद बल्लभ पंत की जंयती

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, कुशीनगर केसरी/kknews24, मिर्जापुर(१० सितंबर)। आजादी के अमृत महोत्सव एवं चैरी-चैरा शताब्दी समारोह की श्रृंखला के अन्तर्गत आज मण्डल व जनपदीय कार्यालयो में भारत रत्न पं0 गोविन्द बल्लभ पंत जी की जंयती पूरे उत्साह व धूमधाम से मनाया गया। आयुक्त कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में मण्डलायुक्त योगेश्वर राम मिश्र एवं संयुक्त विकास आयुक्त सुरेश चन्द्र मिश्र, अपर आयुक्त प्रशासन के द्वारा भी प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री व भारत रत्न पं0 गोविन्द बल्लभ पंत के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। इसी प्रकार कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित कार्यक्रम में भी मुख्य राजस्व अधिकारी हरि शंकर यादव, अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे अमरेंन्द्र कुमार वर्मा, नगर मजिस्ट्रेट विनय कुमार सहित कलेक्ट्रेट के अधिकारियो, कर्मचारियो के द्वारा श्री पंत जी के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्प अर्पित किया गया। मण्डल कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगो को सम्बोधित करते हुये मण्डलायुक्त ने कहा कि भारत रत्न पं0 गोविंद बल्लभ पंत जी का स्वतंत्रता संग्राम आन्दोलन में महत्वपूर्ण योगदान रहा हैं स्वतंत्रता आन्दोलन के तहत श्री पंत जी ने असहयोग आन्दोलन, साइमन कमीशन के बहिष्कार एवं नमक सत्याग्रह में बढ़चढकर प्रतिभाग किया था।

मण्डलायुक्त ने कहा कि भारत की एकता व अखण्डता को बचाये रखते हुये विकास के पथ पर देश को आगे बढ़ाना ही हम सभी का कतव्य है। यही हमारे महापुरूषो प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। कलेक्ट्रेट सभागार में उपस्थित कर्मियो को सम्बोधित करते हुये मुख्य राजस्व अधिकारी ने पं0 गांेविन्द बल्लभ पंत जी को महान देशभक्त, कुशल प्रशासक, सफल वक्ता तर्क के धनी व लेखनी से सशक्त बताया। इसी क्रम में अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे ने भी कहा कि पं0 गांेविन्द बल्लभ पंत जी उत्तर प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री रहे तथा बाद में देश के गृहमंत्री के दायित्व का भी भलीभाॅति निवर्हन किया गया। उन्होने कहा कि वर्ष 1957 में महान देशभक्त, कुशल प्रशासक व सफल वक्ता एवं उदारमना पं0 गोविंद बल्लभ पंत जी को भारत की सर्वोच्च उपाधि भारत रत्न से विभूषित किया गया। कार्यक्रम में मण्डल में मण्डलीय अधिकारी व कर्मचारी तथा कलेक्ट्रेट सभागार में कलेक्ट्रेट के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहें।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment