उत्तर प्रदेश कुशीनगर राजनीति राज्य

कुशीनगर :: सीएम योगी ने जनपद को दिया 400 करोड की सौगात, कप्तानगंज में 19 और तमकुहीराज मे 21 परियोजनाओं का किया लोकार्पण और शिलान्यास

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

● कुशीनगर में बोले CM योगी-‘अब्बाजान’ कहने वाले हजम कर जाते थे गरीबों का राशन, लेकिन अब गरीबों को उनका हक मिल रहा है – योगी। ● सेवरही की जनसभा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ युवाओं के हित में बड़ी घोषणा की। उन्होंने कहा किप्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटे नौजवानों के लिए कुशीनगर समेत सभी जिलों में अभ्युदय कोचिंग शुरू की जाएगी।
डेस्क, कुशीनगर केसरी/kknews24, कुशीनगर(१२ सितंबर)। सूबे के मुखिया ने भारत माता और जय श्रीराम के उदघोष के साथ कहा कि उन्होंने कभी अपना पराया नही देखा, जो प्रदेश का है वह अपना है। किसी के साथ भेदभाव नही किया गया। योगी ने कहा कि देश के लिए, गांव के लिए, गरीब के लिए किसान के लिए समाज के सभी तबके के लिए कार्य कर रहे मोदीजी के प्रेरणा से उनके मार्गदर्शन से पिछले साढे चार वर्षों मे बिना रुके, बिना झूके, बिना टूटे हम लोगो ने जनता-जनार्दन और देश की सेवा की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को कुशीनगर जनपद के रामकोला विधानसभा के कप्तानगंज व तमकुहीराज विधानसभा मे आयोजित जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि अगर आपको लगता है कि मोदीजी और योगी जी ने अच्छा काम किया है तो सभी विपक्षियों की जमानत जब्त होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि  पूर्व की सरकारें विकास को लेकर कभी गंभीर नहीं रहीं। योगी ने सामने खडी भीड से सवालियां अंदाज पूछा तो क्या आप भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रवादी विचारधारा को अपना समर्थन देगे। आगे कहा कि पिछली सरकारों ने भाई भतीजावाद, जाति- पाति और दबंगई चरम पर थी लेकिन जब से यूपी में भाजपा की सरकार बनी तब से विकास की गति तेज हुई है। उन्होंने कहा कि सूबे के सभी जिलों में मेडिकल कॉलेज की स्थापना होगी।

जनता को सम्बन्धित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कहा कि भगवान बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थल कुशीनगर की धरती अपने परिश्रम, पुरुषार्थ और धर्म के प्रति अपनी श्रद्धा भावना से जाना जाता था। उन्होंने कहा कि हाल ही में भीषण बाढ़ की त्रासदी को आपने झेला है, इससे पहले आपने कोरोना की लड़ाई लड़ी थी ।  भीषण गर्मी में  भीड को देख गदगद  हुए और लोगो का स्वागत और अभिनंदन करते हुए कहा कि कुशीनगर हम लोगों का प्यारा जनपद रहा है। कई आंदोलनों में यहां भाग लेने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि कई कार्यकर्ताओं के साथ यहां के गलियों, सड़कों, जिला मुख्यालय, तहसील मुख्यालय में आंदोलन करने की एक लंबी श्रृंखला रही। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि दो विधानसभा क्षेत्र में आने का अवसर हुआ। दोनो विधानसभा क्षेत्रो मे अलग-अलग हुए कार्यक्रम मे सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने लगभग 400 करोड़ से ज्यादा की परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण करते हुए उन्होंने कहा कि यह तो सिर्फ कुशीनगर के लिए एक टेलर है और कार्य किया जाना है। उन्होंने आगे कहा कि कुशीनगर का अपना मेडिकल कॉलेज होगा और अब हम बहुत शीघ्र ही आने वाले हैं। उन्होंने कहा कि अब तो हवाई जहाज भी कुशीनगर से उड़ेगी। यहां की पहली फ्लाइट इंटरनेशनल फ्लाइट होगी क्योंकि भगवान बुद्ध  13 बड़े शक्तिशाली देशों में भारत की शिक्षा और संस्कृति लेकर पहुंचे थे।आगामी एयरपोर्ट के भव्य उद्घाटन की भी चर्चा उन्होनें की। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी ने वर्ष 1977 से 2017 तक सितंबर महीने में कुशीनगर के पांच सौ, सात सौ और एक हजार बच्चो  के इंसेफलाइटिस से असमय मरने की चर्चा की व इस बात के लिए  प्रधानमंत्री श्री मोदी का आभार व्यक्त किया कि उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन, घर-घर शुद्ध पेयजल, स्वास्थ्य सुविधा प्रदान की जिससे दिमागी बुखार पूरी तरीके से समाप्त हो गया। उन्होंने कहा कि यहां का मासूम बच्चा एवं किसी मां को इस बात के लिए रोना नहीं पड़ेगा।  यशस्वी नेतृत्व वाले प्रधानमंत्री मोदी जी की प्रशंसा करते उन्होंने कहा देश की राजनीति पहले जाति , मजहब वेश, भाषा तक सीमित थी लेकिन मोदी जी ने बिना किसी भेदभाव के हर तबके के लोगो तक  विकास पहुंचाया, लेकिन तुष्टीकरण किसी की नहीं की। उन्होंने कहा कि तुष्टीकरण की राजनीति जब तक देश में थी तब तक देश में आतंकवाद भ्रष्टाचार एवं अन्याय था। योगी ने  कहा कि हर गरीब को शौचालय मिला,  नि:शुल्क राशन मिला। उन्होंने यह भी कहा कि 2017 के पहले  तो राशन अब्बा जान  हजम कर जाते थे। तब यहां का राशन नेपाल और बांग्लादेश जाता था। आज कोई राशन निगलेगा तो जेल जरूर पहुंच जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि पहले गरीबों की नौकरी अब्बा जान के कहने पर मिलती थी। मुख्यमंत्री ने सरकार के सारे 4 वर्ष का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार ने 4.30 लाख नौजवानों को नौकरी दी। उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े 4 वर्षों में भूख से एक भी मौत नहीं हुई।

About the author

Aditya Prakash Srivastva

Leave a Comment