क्राइम पश्चिमी चम्पारण बगहा बिहार राज्य

बगहा(पश्चिमी चंपारण) :: पारिवारिक कलह के चलते पीड़ित महिला ने थाने में दर्ज कराई प्राथमिकी, लगा रही न्याय की गुहार परिवार वालो से जान से मारने का है भय

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/kknews24, बिहार(१० अक्टूबर)। बगहा पुलिस जिला के लौकरिया थाना इलाके की 25 साल की एक युवती पिछले कई महीनों से घरेलू हिंसा की शिकार हो रही थी। परिवार के लोग अनपढ़ और दिव्यांग लड़के से उसकी शादी करना चाहते थे। लेकिन उसने इनकार कर दिया। वह बीएससी पास थी। आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहती थी। फिर घरवालों से कहासुनी होने लगी। परिवार वालों ने उसके साथ मारपीट की तो लड़की ने इसकी शिकायत थाने में की। शिकायत के बाद परिवार वालों ने लड़की को घर से बाहर निकाल दिया। फिलहाल वह घरवालों से छुपकर एक दोस्त के घर रह रही है। डर से किसी से भी नहीं मिल रही है, और ना ही किस जगह पर है, इसके बारे में किसी को जानकारी दे रही है। सिर्फ फोन के जरिए ही बात कर रही है। लड़की का आरोप है कि अगर वह बाहर आती है तो परिवार वाले उसे जान से मार देंगे।

बता दें कि पीड़िता ने पारिवारिक प्रताड़ना से परेशान होकर बगहा के महिला थाना में केस दर्ज कराया था। इसमें महिला थाने ने कोर्ट में चार्ज शीट भी पेश की थी। हालांकि कोर्ट ने कुछ निर्देश देते हुए सभी अभियुक्तों, भाई प्रिंस कुमार (22), प्रियांशु कुमार (16 ) के साथ माता सुनिला देवी (47) को जमानत पर रिहा कर दिया था। कोर्ट के दिए गए निर्देशों का पालन जब परिवार के सदस्यों के द्वारा नहीं किया गया तो पीड़िता ने मामले में पीएमओ से लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग तक गुहार लगाई। इसके बाद पीएमओ से बगहा पुलिस को जांच प्रतिवेदन देने का आदेश मिला है।
पीड़िता ने बताया कि परिवार के फैसले का विरोध करने के बाद जब उसे घर से निकाल दिया गया तो सभी रिश्तेदारों को भी अपने यहां रखने से मना कर दिया गया था। उसे कई दिनों तक इधर-उधर घूमकर अपना समय काटना पड़ा। वह आगे की पढ़ाई करना चाहती हैं। अच्छे इंसान से शादी करना चाहती है घलेकिन घरवाले जबरन अनपढ़ से शादी कराना चाहते थे। आरोप लगाया कि परिवार के सदस्यों द्वारा लिंगभेद भी किया जाता है। मामले में पीड़िता की वकील वंदया वर्मा ने बताया कि उसके माता-पिता न्यायालय का आदेश मानने से इनकार करते हुए आदेश की अवहेलना कर रहे हैं। जिसे लेकर फिर से अदालत में एक आवेदन दिया गया है। तारीख पड़ी है, गवाही की प्रक्रिया चल रही है। वहीं रामनगर एसडीपीओ सत्यनारायण राम ने बताया कि इस मामले की जानकारी अब तक मुझे प्राप्त नहीं हुई है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva