पश्चिमी चम्पारण बगहा बिहार राज्य सरोकार

बगहा(पश्चिमी चंपारण) :: सौभाग्यवती स्त्रियाँ अपने अखंड सौभाग्य व पति के दीर्घायुष्य की कामना से करतीं हैं करवा चौथ

News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विजय कुमार शर्मा, कुशीनगर केसरी/kknews24, बिहार(२४ अक्टूबर)। संकष्टी श्रीगणेश करक चतुर्थी (करवा चौथ) का प्रसिद्ध व्रत आज रविवार को किया जाएगा। इस दिन चन्द्रोदय रात्रि 07:52 बजे चन्द्रमा को अर्घ्य दिया जाएगा। सौभाग्यवती स्त्रियाँ एवं नव विवाहितायें अपने-अपने सौभाग्य को अखंड व अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए इस व्रत को बड़ी श्रद्धा एवं विश्वास के साथ करतीं हैं कार्तिक कृष्ण चतुर्थी करक चतुर्थी या करवा चौथ के रूप में मनायी जाती है। यह व्रत स्त्रियों का है और अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए किया जाता है।

करव चौथ के दिन विवाहित स्त्रियाँ पति की दीर्घायु और स्वास्थ्य की मंगलकामना करके चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत को पूर्ण करतीं हैं। इस दिन शिव पार्वती और स्वामी कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है। इसदिन महिलाएं पूरे दिन उपवास रहते हुए अन्न-जल आदि का सेवन नहीं करतीं हैं। सायंकाल व्रत कथा का श्रवण करतीं हैं तथा रात्रि में चन्द्रोदय होने पर अर्घ्य देकर व्रत खोलती है। लोकाचार के अनुसार इस अवसर पर स्त्रियाँ छिद्र युक्त चलनी से पहले चन्द्रमा और तत्पश्चात अपने पति का मुखावलोकन करतीं हैं। पति भी अपने हाथों से अपनी पत्नी को जल पिला कर व्रत का समापन कराता है।

About the author

Aditya Prakash Srivastva